The ATI News
News Portal

बुरी खबर : महाराष्ट्र में 31 जुलाई तक बढ़ा लॉकडाउन , इसके साथ ही 4743 जवान कोरोना पॉजिटिव

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बुरी खबर : महाराष्ट्र में 31 जुलाई तक बढ़ा लॉकडाउन , इसके साथ ही 4743 जवान कोरोना पॉजिटिव

 

दिव्यांशु सिंह | 29-06-2020

 

महाराष्ट्र में 31 जुलाई तक बढ़ा लॉकडाउन
Photo Google

देश भर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के चलते महाराष्ट्र सरकार ने विवश होकर लॉकडाउन को बढ़ाते हुए इसकी सीमा 31 जुलाई निर्धारित की है ।महाराष्ट्र में पिछले हफ्ते से लगातार कोरोना के केस में दोगुनी और तिगुने रफ्तार से वृद्धि हो रही थी । हालांकि ऐसे में एक सवाल लाजमी है कि क्या इसके पहले ही कड़े लॉकडाउन को लागू नहीं किया जा सकता था? आखिर क्या संक्रमितों को बढ़ाने के बाद ही ऐसे लॉकडाउन लगाना जरूरी है ?   # महाराष्ट्र में 31 जुलाई तक बढ़ा लॉकडाउन

 

पाकिस्तान में बड़ा आतंकी हमला ,इतने लोग हो गए मौत के हवाले ।

 

इसके पहले ही एक रिपोर्टर के सवाल पर महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा था कि लॉकडाउन को बढ़ाया नहीं जाएगा तो आखिर अब महाराष्ट्र सरकार ने लॉकडाउन को क्यों बढ़ाया । जब हालात काबू से बाहर होते चले जा रहे हैं तब सरकार सोते-सोते जागती नजर आ रही है । महाराष्ट्र सरकार बताया है कि अगर हालात काबू में इसके बावजूद भी नहीं होते तो आगे भी लॉकडाउन को बढ़ाया जाएगा ।

 

युद्ध ऐलान से पूर्व भारतीय वायु सेना ने चीन के काल को एयरबेस पर किया तैनात ! देखिए आखिर कौन है “ये”?

 

इससे भी बड़ी बात यह है कि महाराष्ट्र में कुल 77 जवानों को कोरोना हो चुका है । इसके साथ ही 59 जवानों की कोरोनावायरस से मौत हो चुकी है , आपको बता दें किअब तक कुल 4743 जवान कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं । महाराष्ट्र सरकार के अनुसार प्राइवेट दफ्तरों में केवल 10 फीसद कर्मचारी ही काम करेंगे इसके अलावा सरकारी दफ्तरों में 15 फ़ीसदी कर्मचारी कार्यरत होंगे ।

 

 

कोरोना वायरस से हर सेकंड में हो रही इतनी मौतें देखकर होश उड़ जाएंगे आपके ।

 

 

भक्तों के लिए आई बड़ी खुशखबरी , चार धाम यात्रा को लेकर सरकार ने कही है ये बड़ी बात , जल्दी देखें !

 

 

भारत के लिए बुरी खबर ,कोरोनावायरस के मरीजों में आई इतनी बड़ी वृद्धि ।

 

 

आखिर कैसे हुई भगवान जगन्नाथ की सुप्रीम जीत

Leave A Reply

Your email address will not be published.