The ATI News
News Portal

नेपाल में बुरी तरह से घिरे ओली ने खोया मानसिक संतुलन! भगवान राम पर दिया विवादित बयान 

1

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

नेपाल में बुरी तरह से घिरे ओली ने खोया मानसिक संतुलन! भगवान राम पर दिया विवादित बयान 

Radha singh 14-07-2020

 

 

नेपाल में बुरी तरह से घिरे ओली ने खोया मानसिक संतुलन! भगवान राम पर दिया विवादित बयान 
Photo Google

 

नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली इन दिनों अपने ही देश में जनता और दल दोनों में बुरी तरह से घिर चुके हैं। उनकी कम्युनिस्ट पार्टी में दो फाड़ हो चुके हैं। विरोधी गुट उनके इस्तीफे पर अड़ा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ओली चीन के इशारे पर भारत विरोधी गितविधियों में लिप्त हैं। अब जनता का ध्यान भटकाने के लिए उन्होंने भगवान राम पर विवादित बयान दिया है। ओली ने बयान दिया है कि भगवान राम भारतीय नहीं, नेपाली थे। उन्होंने यह भी कहा कि असली अयोध्या भारत में नहीं, नेपाल के बीरगंज में है।

 

 

ओली अपने निवास पर भानु जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने भारत पर सांस्कृतिक दमन का आरोप भी लगाया। ओली ने कहा कि विज्ञान के लिए नेपाल के योगदान को हमेशा नजरंदाज किया गया।ओली ने कहा- हमारा हमेशा से ही मानना रहा है कि हमने राजकुमार राम को सीता दी। लेकिन, हमने भगवान राम भी दिए। हमने राम अयोध्या से दिए, लेकिन भारत से नहीं। उन्होंने कहा कि अयोध्या काठमांडू से 135 किलोमीटर दूर बीरगंज का एक छोटा सा गांव थोरी था। हमारा सांस्कृतिक दमन किया गया और तथ्यों को तोड़ा-मरोड़ा गया है।

 

ram

 

जिस अयोध्या का दावा भारत के उत्तर प्रदेश में किया जाता है, वहां से सीता से विवाह करने भगवान राम जनकपुर कैसे आए?

उस समय कोई फोन नहीं थे फिर उन्होंने संवाद कैसे किया? उस दौरान विवाह केवल पास के राज्यों में होते थे। कोई भी शादी करने के लिए इतनी दूर नहीं जाता था?ओली का बयान उस समय आया है, जब भारत और नेपाल के बीच सीमा विवाद चल रहा है। नेपाल ने अपने नए राजनीतिक नक्शे को मंजूरी दे दी है। इसमें तिब्बत, चीन और नेपाल से सटी सीमा पर स्थित भारतीय क्षेत्र कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधूरा को नेपाल का हिस्सा बताया गया है।

भारत ने नेपाल की इस हरकत पर कड़ा ऐतराज जाहिर किया था और चीन का नाम लिए बगैर कहा था कि नेपाल ऐसा दूसरों के कहने पर कर रहा है। इसके अलावा अपने ताजा बयान में ओली ने कहा- बाल्मीकि नगर जो वर्तमान में बिहार के पश्चिम चंपारण जिले में है, उसका कुछ हिस्सा नेपाल में भी है।ओली ने यह बयान तब दिया है, जब वे अपनी पार्टी एनसीपी में अकेले पड़ गए हैं। पार्टी के नेता ही उनसे इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। लेकिन ओली इस्तीफे को तैयार नहीं हैं। उनके मुख्य विरोधी पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड, ओली के इस्तीफे से कम पर मानने को तैयार नहीं हैं। दोनों नेताओं के बीच 6 दौर की बातचीत हो चुकी है। हालांकि, मसला सुलझने के आसार नजर नहीं आ रहे।

 

 

आखिर कैसे हुई भगवान जगन्नाथ की सुप्रीम जीत

Leave A Reply

Your email address will not be published.