The ATI News
News Portal

चीन को जापान देने जा रहा तगड़ा झटका, उठाने जा रहा है ये बड़ा कदम…

1

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

चीन को जापान देने जा रहा तगड़ा झटका, उठाने जा रहा है ये बड़ा कदम…

 

राधा सिंह | 19/07/2020

 

PC :Google

वुहान से पूरी दुनिया में कोरोना वायरस महामारी फैलाने वाला चीन भले ही चालबाजी करके बच निकले, लेकिन भारत से पंगा लेने के बाद अब उसे बर्बाद होने से कोई नहीं बचा सकता। जैसे ही भारत ने चीन के जासूसी करने वाले 59 एप्स पर पाबंदी लगाई, तो पूरी दुनिया ने उस पर नकेल कसनी शुरू कर दी। इस कड़ी मे अब जापान चीन से अपनी 57 कंपनियां बाहर निकालने जा रहा है।

जापान सरकार ने अपनी कंपनियों को चीन से निकल कर वापस देश आने का न्योता दिया है। जिसके लिए वह पैसे भी दे रहा है। इस तरह चीन से 57 जापानी कंपनियां बाहर जा सकती हैं। बाकी देशों से भी 30 कंपनियों को वापस आने के लिए कहा गया है।

यह भी पढ़ें :

भारतीय वायु सेना के तेवर हुए सख्त,चीनी सीमाओं पर अब राफेल लड़ाकू विमान भरेंगे उड़ान   

 

चीन से वापस आएंगी जापानी कम्पनियां

जापान की तरफ से एक खास पहल की गई है, ताकि लोकल सप्लाई चेन पर कभी कोई असर ना पड़े और चीन पर उनकी निर्भरता भी कम हो सके। जापान की सरकार ने चीन से जापानी कंपनियों का वापस निकाल कर फिर से जापान में लाने के लिए पैसे देने का फैसला किया है।जापान अपनी 57 कंपनियों को चीन से वापस आकर देश में ही मैन्युफैक्चरिंग करने के लिए 53.6 करोड़ डॉलर खर्च कर रहा है।इतना ही नहीं, अन्य 30 कंपनियों को वियतनाम, म्यांमार, थाइलैंड और दक्षिण पूर्व एशियन देशों से अपनी यूनिट वापस जापान लाने के लिए भी पैसे दिए जा रहे हैं। निक्केई अखबार की रिपोर्ट के अनुसार सरकार इसके लिए कुल मिलाकर करीब 70 अरब येन खर्च करेगी।

यह भी पढ़ें:

आज़मगढ़ में दो पक्षों के बीच मारपीट को शांत करने पहुची पुलिस पर ग्रामीणों ने किया पथराव 

चीन के खिलाफ खड़े होने वाले देशों का एक और उदाहरण है, क्योंकि चीन का तरीका सही नहीं है। आर्थिक मोर्चे पर ब्लैकमेल करने से लेकर दूसरे देश की सीमा का सम्मान नहीं करना किसी भी देश को अच्छा नहीं लग रहा है। ताइवान की सरकार ने भी 2019 में कुछ ऐसी ही पॉलिसी बनाई थी, जैसी जापान ने बनाई है।

 

.यह भी पढ़ें:

युद्ध ऐलान से पूर्व भारतीय वायु सेना ने चीन के काल को एयरबेस पर किया तैनात ! देखिए आखिर कौन है “ये”?

 

वहीं अमेरिका पहले ही चीन से अपनी कंपनियां निकालने की फिराक में है। एप्पल ने तो भारत में अपने प्लांट्स बढ़ाने का फैसला भी कर लिया है। चीन से बहुत सारी कंपनियां निकल कर बाहर आना चाहती हैं। भारत ने भी पहले ऐप बैन किए और अब चीनी कंपनियों पर भी शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। हो सकता है आने वाले वक्त में चीनी कंपनियों को भारत से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.