The ATI News
News Portal

कोरोना कॉल में विद्यार्थियों की समस्या

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

कोरोना कॉल में विद्यार्थियों की समस्या

 

Harshit Srivastav

 

*करोना कॉल में विद्यार्थियों की समस्या*
PC:GOOGLE

 

स्ट्रेसफुल विद्यार्थी

एक परिणाम के रूप में महामारी और लॉकडाउन ने पूरे देश की शिक्षा प्रणाली पर अचानक ठहराव ला दिया है ।
लॉकडाउन के कारण कई स्कूल तथा विश्वविद्यालय के विद्यार्थी अपने इस शैक्षणिक वर्ष को खोने के कगार पर है। और सरकार इंस्टिट्यूट फैकेल्टी स्टूडेंट तथा पेरेंट्स पर अभूतपूर्व चुनौतियां आन पड़ी है।

इस कठिन दौर में ऑनलाइन पढ़ाई बेहतरीन लगता है लेकिन कि कितना फलदायक होगा यह कहना मुश्किल है। हमें या ध्यान देना चाहिए कि पिछले कुछ महीने विद्यार्थी के लिए काफी स्ट्रेसफुल रहे हैं बार-बार एग्जाम का पोस्टपोन होना , कैंसिल होना एक अनिश्चितता का होना।

*करोना कॉल में विद्यार्थियों की समस्या*
PC : GOOGLE

छात्रों की समस्या?

लाखों की फीस देकर विद्यार्थी अपने भविष्य को लेकर काफी चिंतित दिख रहे हैं। कुछ यूनिवर्सिटीज के द्वारा अच्छे फैसले भी ले गए। जो उनके प्रमोशंस से संबंधित थे।
फिर भी विद्यार्थी अपने ग्रेडिंग सिस्टम को लेकर भी परेशान हुए|ध्यान देने वाली बात यह है अभी कुछ यूनिवर्सिटी के फैसले काफी विवादों में हैं और जो कि Final year के exam को लेकर हैं।

Indian Parent Association के हेड अशोक अग्रवाल ने एक इंटरव्यू में बताया कि-

“एजुकेशन बच्चों के लिए है लेकिन बच्चा कहीं भी मध्य में नहीं है या तो सारी बातें होती हैं स्कूल के दृष्टिकोण से या सरकार के दृष्टिकोण से या पेरेंट्स के दृष्टिकोण से, लेकिन बच्चा कहीं पिक्चर में है ही नहीं यह बड़े दुर्भाग्य की बात है”

 

हमें विद्यार्थी के दृष्टिकोण से आगे बढ़ना चाहिए।
हालांकि हमारे शिक्षा मंत्री जी ने एक नई शिक्षा नीति के लाने की बात की है  “जिसमें रोजगार और छात्र शिक्षा का समन्वय बैठाना मुख्य होगा।” और अवश्य ही हम चुनौतियों में हैं लेकिन भारत का युवा हमेशा कठिन वक्त में साथ आए हैं हमें उन्हें अपने साथ लेकर चलना है।

यह भी पढें : कोरोना कॉल में विश्वविद्यालयों के मनमाने तुगलकी फरमानो पर एकजुट होने जा रहे हैं छात्र संगठन : फीस , छात्रवृति और परीक्षा है मुद्दा ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.