The ATI News
News Portal

PETA का हिन्दू विरोधी चेहरा हुआ बेनकाब, तो जानिए क्या किया!

3

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

PETA का हिन्दू विरोधी चेहरा हुआ बेनकाब, तो जानिए क्या किया!

 

राधा सिंह22/07/2020

 

PETA का हिन्दू विरोधी चेहरा हुआ बेनकाब, तो जानिए क्या किया!
Photo Google

 

जानवरों के अधिकारों की बात करने का दावा करने वाली संस्था PETA का हिंदू विरोधी चेहरा बेनकाब हुआ है। हिंदुओं के पवित्र त्योहार रक्षाबंधन पर भ्रामक और आधारहीन मुहिम चलाने वाले पेटा को अपने किए पर न सिर्फ शर्मिंदा होना पड़ा बल्कि माफ करने की गुहार भी लगानी पड़ी। पेटा ने अपनी वेबसाइट में एक लेख के माध्यम से हिन्दुओं से अपील की थी कि वो इस बार रक्षाबंधन के त्योहार में गाय के चमड़े वाली राखी इस्तेमाल ना करें।

 

 

लेकिन जब हिंदुओं ने इस पर जबरदस्त विरोध यह कहकर जताया कि राखी में गाय का चमड़ा इस्तेमाल नहीं होता है तो फिर पेटा यह बात कह कर हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को क्यों चोट पहुंचा रहा है? जैसे ही पेटा का हिंदू विरोधी चेहरा बेनकाब हुआ तो उसने तुरंत अपनी वेबसाइट से इस लेख को हटा दिया है।

 

 

हालांकि, पेटा लगभग हर साल ही रक्षाबंधन के अवसर पर इस प्रकार की भ्रांतियां फैलता आया है कि राखी में गाय का चमड़ा इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन अब तक यह संस्था सिर्फ इस बात का फायदा उठाकर यह नैरेटिव विकसित करती आ रही थी कि राखी में गाय का मांस इस्तेमाल किया जाता है। और तो और, इसके लिए पेटा द्वारा ‘जागरूकता अभियान’ तक चलाए गए। दरअसल, हाल ही में जानवरों के अधिकारों की बात करने का दावा करने वाली हिन्दूफोबिक संस्था पेटा ने गाय के चित्र वाले उस बैनर से लोगों का ध्यान आकर्षित किया था, जिसमें रक्षाबंधन के दौरान राखी में चमड़े का उपयोग न करने की सलाह दी गई थी।

 

 

इसके बाद विवाद खड़ा हो गया था क्योंकि पेटा को यह तक पता नहीं कि रक्षाबंधन में चमड़े का उपयोग नहीं होता है। लोगों ने तो पेटा इंडिया से बकरीद पर भी ऐसी ही एक अपील की बात कह कर अपना आक्रोश व्यक्त किया, जिस पर पेटा ने दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं को बेहद घटिया जवाब देकर अपनी संस्था की मंशा को उजागर किया था। राखी में गाय का माँस इस्तेमाल होने के दुष्प्रचार को फैलाने पर पेटा के खिलाफ सोशल मीडिया पर हो रहे व्यापक विद्रोह का नतीजा यह रहा है कि अब पेटा ने आखिरकार अपनी गलती स्वीकार कर गाय और रक्षाबंधन से जुड़े अपने भ्रामक विज्ञापनों को हटाने और उन्हें बदलने की बात कही है। साथ ही, पेटा ने कहा है कि वह ‘गलतफहमी’ के लिए माफी मांगता है।

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.