The ATI News
News Portal

त्रेतायुग का सम्पूर्ण दर्शन कराएगा अयोध्या का श्री राम मंदिर, भव्य होगा 5 अगस्त को मंदिर का भूमि पूजन

3

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

त्रेतायुग का सम्पूर्ण दर्शन कराएगा अयोध्या का श्री राम मंदिर, भव्य होगा 5 अगस्त को मंदिर का भूमि पूजन

Pc :Google

 

शुभेन्द्र धर द्विवेदी |23/07/2020

अयोध्या में भगवान श्री राम की जन्म भूमि पर श्री राम मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को प्रधान मंत्री द्वारा भूमि पूजन कर इसका शिलान्यास किया जाना है। 5 अगस्त को होने वाले इस भूमि पूजन पर सबकी निगाहें टिकी हुई है। वहीं दूरी ताइफ़ राम मंदिर परिसार के अतिरिक्त स्थानों पर भव्य रामायणकालीन स्मृतियाँ एवं ढांचे को बना त्रेतायुग की सम्पूर्ण झलक को उतारने की तैयारी की जा रही है।

मंदिर परिसर को इस तरीके से सजाने की योजना बनाई जा रही है ताकि मंदिर में प्रवेश करते ही भगवान राम से जुड़े रामायण कालीन स्मृतियों एवं त्रेतायुग को पूर्ण रूप से जीवंत प्रदर्शित कीया जा सके।

मणिराम दास की छावनी व राममंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास बताते हैं कि भूमि पूजन पूरा विश्व देखे। इसकी भी तैयारी की जा रही है।

यह भी देखें ;

अब 31 दिसंबर तक करना होगा “वर्क फ्रॉम होम”, सरकार ने जारी की नई गाईड लाइन

उन्होंने बताया कि राममंदिर परिसर को रामायण कालीन दृश्यों से सजाया-संवारा जाएगा। मंदिर परिसर में नक्षत्र वाटिका बनाई जाएगी। 21 नक्षत्रों के वृक्ष लगाए जाएंगे।
ताकी लोग अपने अपने जन्मदिन पर अपने नक्षत्र के हिसाब से पेड़ के नीचे बैठकर ध्यान लगा सकें और राममंदि में पूजा कर सकें। राममंदिर परिसर में वाल्मीकि रामायण में वर्णित वृक्षों को भी लगाया जाएगा।

इसके साथ ही उन्हीने यह भी बताया कि मंदिर परिसर में गोशाला, धर्मशाला सहित भगवान श्रीराम का भव्य म्यूजियम को भी बनाने की योजना बनाई जा रही है।

महामारी विनाशक होगा मंदिर का भूमि पूजन

यह भी पढ़े ;

2021 से पहले करोना की वैक्सीन बन पाना मुश्किल है- WHO

ज्योतिषियों का कहना है कोरोना काल के दौरान प्रधानमंत्री की कुंडली और राम मंदिर के भूमि पूजन के मुहूर्त के अध्ययन के बाद यह संयोग आया है। राम मंदिर निर्माण की आधारशिला अभिजीत मुहूर्त और शोभन योग में रखी जा रही है जिसके बाद इस भयंकर महामारी का विनाश होगा। भूमि पूजन के साथ ही देश का सौभाग्य भी उदित होगा। भारत की खुशहाली और सनातन अभ्युदय का भी संयोग बन रहा है।

यह भी पढ़ें;

भारतीय वायु सेना के तेवर हुए सख्त,चीनी सीमाओं पर अब राफेल लड़ाकू विमान भरेंगे उड़ान

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.