The ATI News
News Portal

5 अगस्त को आयोजित राम मंदिर भूमि पूजन में 151 नदियों का जल लेकर पहुंचे जौनपुर के 2 भाई

1

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

5 अगस्त को आयोजित राम मंदिर भूमि पूजन में 151 नदियों का जल लेकर पहुंचे जौनपुर के 2 भाई

 

ATI DESk | 04-08-2020

 

151 नदियों का जल लेकर पहुंचे जौनपुर के 2 भाई

अयोध्या में श्री राम जन्म भूमि पर मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन में जौनपुर के दो भाई 151 नदियों व तीन समुद्रों का जल लेकर अयोध्या पहुंच गये हैं। जौनपुर जिले के राधेश्याम पांडेय और पंडित त्रिफला 1968 से ही श्रीलंका में 16 स्थानों से मिट्टी, नदियों व समुद्रों का जल एकत्रित कर रहे हैं। इसके अलावा भारत के कई नदियों व समुद्रों का भी जल ए​कत्रित कर अयोध्या पहुंचे।

 

 

UPSE टॉपर की कहानी , जानिए कैसे किसान का बेटा बना टॉपर

 

राधेश्याम ने कहा कि यह हमेशा से हमारा सपना रहा है कि जब भी राम मंदिर का निर्माण हो हम श्रीलंका की मिट्टी, नदियों व समुद्रों का जल उपहार स्वरूप दें। 1968 से 2019 तक दोनों भाई पैदल, साइकिल, मोटर साइकिल, ट्रेन और एयरप्लेन से इस काम के लिए घूमते रहे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 5 अगस्त बुधवार को राम मंदिर की नींव रखेंगे। भूमि पूजन समारोह के बाद मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो जायेगा। राम भक्तों की टोली मंदिर, मठों व मोहल्लों में जनसंपर्क कर लोगों से पांच अगस्त को घरों में पूजन करने व शाम को दीपोत्सव मनाने की अपील किया जा रहा है। अयोध्या रेलवे स्टेशन को भी राम मंदिर के तर्ज पर विकसित किया जाएगा। स्टेशन के पहले फेज का विकास अगले वर्ष जून तक पूरा हो जाएगा।

 

यह भी पढें :

 अब फिल्मों और वेब शोज में सेना की वर्दी या उनसे जुड़े किरदार दिखाने से पहले गृह मंत्रालय से लेना होगा पर्मिशन

 

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि देश के करोड़ोंं लोगोंं की आस्था के प्रतीक श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में रेलवे अयोध्या स्टेशन का पुनर्विकास कर रहा है। भूमि पूजन समारोह को लेकर अयोध्या में पूरी व्यवस्था चाक चौबंद है। सिर्फ अयोध्यावासियों को ही नगर में प्रवेश दिया जाएगा।

 

 

जानिए कहां छिपा  है अरबों  के खजाने का राज जहां मौजूद है 30 टन सोना

Leave A Reply

Your email address will not be published.