मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम कमल नाथ ने केंद्र की मोदी सरकार व एमपी की शिवराज सरकार पर जमकर बोला हमला

0

वरिष्ठ कांग्रेस नेता (senior congress leader) और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व सीएम कमल नाथ (former CM Kamal Nath) ने केंद्र (central) की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi government) और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की शिवराज सिंह चौहान सरकार (Shivraj Singh Chauhan government) पर जमकर हमला बोला (attacked fiercely) है। कमल नाथ ने कहा कि केंद्र की निष्ठुर किसान विरोधी सरकार (ruthless anti-farmer government) गूंगी-बहरी (dumb-deaf) बनी हुई है।

योगी सरकार का बड़ा फैसला: महाराजगंज जिले के आठ गाँवों को जल्द ही कुशीनगर में किया जाएगा शामिल

अभी तक 600 से अधिक किसानों (farmers) की मौत (death) हो चुकी है। इसके बावजूद भी यह सरकार तानाशाही रवैया अपनाते (adopt a dictatorial attitude) हुए किसानों का दमन (repression) कर रही है। इन कानूनों (laws) को वापस (return) नही ले रही है। कांग्रेस पार्टी (Congress party) अन्नदाताओ (food donors) के साथ है, उनके हर संघर्ष (Struggle) में उनके साथ खड़ी (stand) है। मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम कमल नाथ ने मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोला (attacked) है।

इम्प्रूवमेंट एग्ज़ाम देकर स्टूडेंट्स ने आज़माई अपनी किस्मत, सभी विषयों में लगभग 21 अंक का हुआ इज़ाफ़ा

कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में खुद (self) को किसान पुत्र (farmer son) बताने वाले शिवराज सिंह की यह कैसी किसान विरोधी तानाशाह सरकार? प्रदेश (State) के कृषि मंत्री (agriculture minister) के क्षेत्र हरदा (Harda area) में किसानों से बिजली बिल वसूली (electricity bill recovery) के लिए किसानों के खाते सीज (Seize the account) कर दिए, इतना ही नहीं इन किसानों के खसरे (Khasra) के कॉलम नंबर 12 (column number 12) में भी बकाया राशि (outstanding amount) की एंट्री (entry) की जा रही है।

राहत की ख़बर: अब किसानों के बिजली बिल पर लगे ब्याज को माफ़ करेगी योगी सरकार

किसानों से वसूली (Recovery) का यह कैसा तानाशाही तरीका (dictatorial way) ?? एक तरफ तो सरकार ने 2020 की राहत (relief) व बीमा राशि (insurance coverage) खातों (accounts) में ट्रांसफर (transfer) नहीं की, दूसरी तरफ जब अपनी मूँग की फसल (moong crop) बेचने (sell) के बाद किसानों के खाते में रुपए आये तो यह आदेश (order) निकाल दिया गया। पूर्वी केंद्रीय मंत्री कमल नाथ ने आगे कहा कि मैं सरकार से माँग (demand) करता हूँ कि वसूली (Recovery) के इस बेतुके (absurd) व तानाशाही निर्णय (dictatorial decision) को तत्काल वापस (immediate back) लिया जाए।

जिस एक्सप्रेस-वे का अभी पीएम मोदी द्वारा किया जाना था उद्घाटन, वहीं से होकर गुज़र गया पूर्व सीएम अखिलेश यादव का काफ़िला

किसानों को उनकी पूर्व की बकाया राहत (past due relief amount) व बीमा राशि (insurance coverage) का पहले भुगतान (payment) किया जाए। उनके खाते होल्ड (account hold) से हटाए जाएँ अन्यथा कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी, इस मामले (matter) पर किसानों (farmers) के साथ सड़क (road) पर आंदोलन (protest) करेगी।

23 साल के गूगल ने कैसे कर दिया कमाल…..

Leave A Reply

Your email address will not be published.