ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

कोरोना महामारी से अनाथ हुए बच्चों, महिलाओं को प्रदेश सरकार दे रही है आर्थिक सहायता व रोजगार:

0

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रदेश में कोविड-19 महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों को उनके भरण-पोषण, शिक्षा चिकित्सा आदि की व्यवस्था हेतु आर्थिक सहयोग प्रदान करने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश में “उ0प्र0 मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना” प्रारम्भ की है।

112 पर पंजीकरण कराकर पुलिस का निरन्तर सहयोग प्राप्त करे……

0 से 18 वर्ष की उम्र तक के ऐसे बच्चे जिनके माता या पिता अथवा दोनों की मृत्यु कोविड-19 के संक्रमण से हो गई हो। ऐसे बच्चों को रू0-4000/- प्रति माह की सहायता दी जा रही है। ऐसे बच्चे जो पूर्णतया अनाथ हो गए हों एवं बाल कल्याण समिति के आदेश से विभाग के अन्तर्गत संचालित बाल्य देखभाल संस्थाओं में आवासित कराया जा रहा है।

4 साल की लापता मासूम बच्ची का शव मिलने से हड़कंप

11 से18 वर्ष तक की आयु के बच्चों की शिक्षा-12 तक की निःशुल्क शिक्षा हेतु अटल आवासीय विद्यालयों तथा कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में प्रवेश कराया जा रहा है। प्रदेश सरकार अनाथ हुई बालिकाओं के शादी योग्य होने पर शादी हेतु रू 0 -101000 (एक लाख एक हजार) की राशि उपलब्ध करा रही है। साथ ही उपरोक्त श्रेणी के अन्तर्गत आने वाले कक्षा-9 या इससे ऊपर की कक्षा में अथवा व्यवसायिक शिक्षा प्राप्त कर रहे 18 वर्ष तक के बच्चों को टेबलेट/लैपटॉप की सुविधा उपलब्ध करा रही है।

जौनपुर में सड़क दुर्घटना में एक युवक व महिला की मौत

     जनपद स्तर पर ऐसे बच्चों को लाभ दिलाने हेतु महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बच्चों के अभिभावकों से सम्पर्क कर आवेदन पत्र भराए जा रहे हैं प्रदेश में अब तक 287 ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता दोनों की तथा 4512 ऐसे बच्चे जिनके माता या पिता में से किसी एक की मृत्यु कोविड से हुयी है, पाये गये है। प्रदेश के मुख्यमंत्री जी ने कुल 4350 बच्चों को प्रथम 03 माह की अग्रिम धनराशि (कुल रू0-12000 प्रति बच्चा) सम्बन्धित के खाते में  प्रेषित किया है।
न्याय के लिए 14 महीने भटकती रही नाबालिग पीड़िता….



        प्रदेश सरकार ने कोविड-19 के कारण माता-पिता दोनों या किसी एक अथवा अभिभावक को खोने वालेे बच्चों के साथ ही अब उन बच्चों को भी हरसंभव मदद पहुॅचाने की प्रयास किया गया है। जिन्होंने कोविड से इतर कारणों से कोरोना काल में अपनों को खोेया है। सरकार द्वारा जुलाई 2021 में "उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना (सामान्य)" शुरू की गई है। इस योजना का लाभ जल्द से जल्द बच्चों व किशोरों को प्रदान किये जाने को लेकर समस्त जिलाधिकारियों को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं।

चप्पलों में ब्लू टूथ डिवाइस छिपाकर आधुनिक तकनीक से परीक्षा में हो रही थी नकल, चढ़ गए पुलिस के हत्थे….

योजना के अन्तर्गत 18 साल से कम उम्र के ऐसे बच्चे जिन्होेंने कोरोना से इतर कारणों से पहली मार्च 2020 के बाद माता-पिता दोनों या किसी एक को अथवा अभिभावक को खोया है, उनको प्रतिमाह 2500 रूपये की मदद पहुॅचाई जायेगी।

स्वदेशी वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बायोटेक को WHO ने दिया फिर एक बड़ा झटका, माँगा वैक्सीन से जुड़ा और भी डाटा

ऐसी सभी महिलाओं को उनके संरक्षण तथा उन्नयन हेतु आर्थिक व सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से जोड़े जाने के साथ-साथ जीवन यापन हेतु नवीन अवसर प्रदान किये जाने के लिये व्यापक स्तर पर कार्य किये जा रहे है। प्रदेश के मुख्यमंत्री जी के निर्देशों के क्रम में प्रदेश में विभिन्न विभागों के समवन्य से एक व्यापक अभियान संचालित किया जा रहा है।

यूपी बेसिक शिक्षा विभाग ने 27 सितंबर को UP TET 2021 परीक्षा के लिए जारी किया टाइम टेबल…..

कोविड-19 महामारी के दौरान अपने पिता/पति/संरक्षक को खोने वाली महिलाओं को जोखिम भरी परिस्थितियों से संरक्षण प्रदान करना, प्रभावित महिलाओं को सामाजिक एवं आर्थिक उन्नयन हेतु प्रदेश में संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ दिलाना तथा ऐसी महिलाओं को जीवन यापन हेतु विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं तथा कार्यक्रमों में रोजगार के नवीन अवसर प्रदान किया जाना इस अभियान का मुख्य लक्ष्य है।

महिला व बाल विकास विभाग की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को स्मार्टफोन से लैस करने जा रही है योगी सरकार, 1,23,000 होंगे लाभार्थी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.