गोरखपुर के बाद अब संत कबीर नगर पुलिस का बर्बर चेहरा आया सामने….

0

धनघटा पुलिस पर लगे इस संगीन आरोप थाने में बंद कर शैलेंद्र वर्मा नाम के एक व्यापारी को इस कदर मारा की व्यापारी की हालत खराब गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज में चल रहा इलाज

लखीमपुर में हुई हिंसा के बाद घटनास्थल की हुई जाँच, बरामद किए गए खाली कारतूस

व्यापारी मनीष गुप्ता का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ कि गोरखपुर से सटे संत कबीर नगर के धनघटा थाने में एक और मामला सामने आ गया है यहां के पुलिस पर आरोप है कि उन्होंने थाने में बंद करके एक व्यापारी को इतना मारा की वह पूरी तरीके से घायल हो गया गंभीर हालत में घायल को Sho के द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाते हैं जहां पर उनकी स्थिति नाजुक देखते हुए उन्हें संत कबीर नगर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया जाता है वहां उनको पुलिस छोड़ कर भाग जाती है इसके बाद परिजन जिला अस्पताल ले जाते हैं

घर पर नोटिस चस्पा होने के बावजूद भी क्राइम ब्रांच के सामने नहीं पेश हुआ लखीमपुर हिंसा का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा

जहां पर मरीज की हालत को गंभीर बताते हुए मरीज को बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर के लिए रेफर कर दिया गया जहां पर वह अपनी जिंदगी और मौत से जूझ रहा है यह पूरा मामला धनघटा थाना क्षेत्र के लहुरे गांव का है जहां पर शैलेंद्र वर्मा प्रदीप कुमार वर्मा को एक सिपाही आता है बोलता थाने पर आइए वहां जैसे ही पहुंचते हैं वहां पहले से मौजूद विपक्ष राजकुमार वर्मा बोलता है यही है उसके उपरांत पुलिस वाले कॉलर पकड़ कर उस दुकानदार को गाली देते हुए धकेल के अंदर ले जाते हैं

फतेहपुर से दहेज हत्या का बड़ा मामला आया सामने, पुलिस के आने पर परिजनों को सौंपा महिला का शव

जिस पर शैलेंद्र वर्मा बोलते हैं हम कोई क्रिमिनल हैं हमारे साथ इस तरह का दुर्व्यवहार क्यों किया जा रहा है उसके तुरंत बाद मौजूद सिपाही हाथ उठाना शुरू कर देता हैं वहां मौके पर एसएचओ साहब भी मौजूद होते वह भी एक तमाचा जोर से मारते हैं इसके उपरांत वहां मौजूद 10 से 15 सिपाही इनको जमीन पर गिरा के लात घुसा से पीटते हैं उस मार से यह बेहोश हो जाते हैं शैलेंद्र वर्मा बुरी तरीके से जख्मी हो गए जिनका इलाज बीआरडी मेडिकल कॉलेज में चल रहा है

आगामी विधानसभा चुनाव से पहले आज संगठन के सांसदों, पदाधिकारियों और विधायकों से फीडबैक लेंगे सीएम योगी….

Leave A Reply

Your email address will not be published.