सरकार की कार्रवाई से SC संतुष्ट नहीं….

0

नई दिल्ली. CJI ने कहा कि उदाहरण के तौर पर 302 यानी हत्या का मामला दर्ज होता है तो ऐसे हालात में पुलिस क्या करती है? हत्या के मामले में आरोपी से अलग व्यवहार क्यों हो रहा है?

अलीगढ़ में डेंगू के मरीजों में इजाफ़े के साथ बकरी के दूध का दाम भी छूने लगा आसमान, बिक रहा 400 रूपए प्रति लीटर

अदालत ने साफ कर दिया है कि मामले से जुड़े कई मेल उन तक पहुंचे हैं, लेकिन सभी को सुनवाई के लिए समय नहीं दिया जा सकता है. साथ ही कोर्ट ने कहा है कि पहले वे राज्य सरकार का पक्ष सुनेंगे. उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से मामले की स्टेटस रिपोर्ट आज कोर्ट के सामने पेश की गई.

प्रोस्टीट्यूशन के लिए 60 हज़ार में हुई किशोरी की खरीद-फ़रोख़्त, बंधक बनाने वाले पर कई धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा

Leave A Reply

Your email address will not be published.