ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

“डॉक्टर भगवान का रूप होते हैं” इस कहावत को सच करने वाली बांदा की एक डॉक्टर की बताते हैं आपको पूरी कहानी….

0

उत्तर प्रदेश। यूपी (UP) के जिला बांदा (Banda) के मरका गाँव में रहने वाली मीना देवी पत्नी प्रदीप को समय से पहले प्रसव पीड़ा (pain during pregnancy) होने पर उसके परिजनों ने 6 अक्टूबर की रात लगभग 10 बजे राजकीय मेडिकल कॉलेज (Government Medical College) में भर्ती कराया। मीना का ऑपरेशन उसी रात को 2 बजे डॉक्टर नीलम सिंह ने किया।

पुलिस चौकी से 50 मीटर की दूरी पर बने एक घर में हुई गहनों समेत 10 लाख रुपयों की चोरी, सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुई घटना

डॉ. नीलम बताती हैं कि मीना देवी को 9 माह से पहले ही प्रसव पीड़ा होने लगी थी। इससे पहले भी उसका पहला बेटा ऑपरेशन (operation) से हुआ था और अब वहीं ऑपरेशन के टाँकों पर दर्द होने लगा था। डॉक्‍टर नीलम ने बताया कि, ‘यहाँ महिला मरीज की देखभाल के लिए वृद्ध पिता राजेंद्र तिवारी निवासी ग्राम दोहा देहात कोतवाली मौजूद थे।

आरपीएफ़ सब इंस्पेक्टर ललितेश सिंह ने बहादुरी से बचाई रेलवे ट्रैक पर गिरी महिला की जान….

इस बीच महिला को खून (blood) की कमी हो गई और उसे तत्काल खून की जरूरत थी। ऐसी स्थिति में मरीज की जान बचाना मेरा कर्तव्य (Duty) था। तो मैंने तत्काल अपना खून देकर मरीज को चढ़ाया।’ डॉक्टर (doctor) नीलम की अपने कर्तव्यों के प्रति निष्ठा देखकर वहाँ मौजूद सभी लोग उनकी वाहवाही करने लगे।

उन्नाव के एक गाँव में मेले में बंट रहे खाने को खाकर 50 लोगों की हालत हुई ख़राब, डॉक्टरों की टीम पहुँचकर कर रही इलाज….

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.