विधानसभा चुनाव को लेकर सपा की रैली के दौरान अखिलेश यादव ने “खदेड़ा होबे” का दिया नारा….

0

उत्तर प्रदेश। यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections) के लिए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की बुधवार को मऊ (Mau) में हुई पहली पूर्वांचल रैली में ‘खेला होबे’ की तर्ज पर बीजेपी (BJP) के खिलाफ ‘खदेड़ा होबे’ का नारा दिया गया। सुहेलदेव समाज पार्टी से गठबंधन के बाद उसके साथ पार्टी की यह पहली रैली थी। रैली (rally) में अखिलेश यादव ने किसानों-मजदूरों के बीच महंगाई, बेरोजगारी, कोरोना से मौतों और प्रवासी मजदूरों की बेहाली के मुद्दों को उठाया।

ड्यूटी में लापरवाही करने वाले 114 पुलिसकर्मियों को फ़तेहपुर एसपी ने किया लाइन हाज़िर

रैली को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि जिस दरवाजे से भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आई है वह दरवाजा ओमप्रकाश राजभर जी ने बंद कर दिया है। हम लोगों ने मिलकर उस पर चटखनी लगा दी है। बताओ अब बीजेपी का क्या होगा..? पिछड़ों, गरीबों, किसानों और मजदूरों की रैली में अखिलेश उनकी दुखती रगों को छूने की कोशिश करते रहे।

शराब का पैसा न मिलने पर निर्दयी बेटे ने रॉड से मारकर कर दी माँ की हत्या….

कोरोना (Corona) की पहली लहर के दौरान यूपी (UP) में प्रवासी मजदूर सबसे ज्यादा पूर्वांचल में ही आए थे। उनकी तकलीफों को याद दिलाते हुए अखिलेश ने कहा कि जो गरीब थे अपना सामान लेकर, अपनी पोटली लेकर और जो कुछ कमाया था उसे लेकर क्यों महाराष्ट्र (Maharashtra) से चल दिए, क्यों गुजरात (Gujarat) से चल दिए, क्यों देश के दूसरे हिस्से से वो अपने गाँव पहुँच गए, लेकिन सरकार (government) ने कोई सुध नहीं ली।

जानिए आख़िर क्या है आगरा के मेहताब बाग में बनी 11 सीढ़ियों का रहस्य..??

उन्होंने कहा कि बीजेपी ने चप्पल पहनने वालों को जहाज में चलाने का वायदा किया था, लेकिन पेट्रोल (petrol) इतना महँगा हो गया है कि जहाज तो क्या उनकी बाइक भी खड़ी हो गई है। किसानों की आमदनी दोगुनी करने का वायदा था, लेकिन उसकी लागत दोगुनी हो गई है।

कोबरा के काटने पर उसे भी पकड़कर हॉस्पिटल ले गया युवक, मचा हड़कंप….

इस दौरान उन्होंने लखीमपुर खीरी (Lakhimpur khiri) मामले को भी उठाते हुए भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि क्या हमने वो तस्वीरें नहीं देखीं जिनमें किसान अपने हक को माँगने गए, अपने अधिकारों को माँगने गया तो इस सरकार के एक मंत्री के बेटे ने उन्हें गाड़ी से कुचल दिया। जिससे उनकी जान चली गई। लेकिन गृह राज्यमंत्री ने अभी तक इस्तीफ़ा (Resignation) नहीं दिया है।

कानपुर में जीका वायरस तेज़ी से पसार रहा पाँव, मरीजों की संख्या हुई 19….

Leave A Reply

Your email address will not be published.