बनारस में स्क्रब टाइफ़स के मिले 11 मरीज, चिंता का बना विषय….

0

वाराणसी। बीएचयू (BHU) की माइक्रोबायोलॉजी लैब (micro biology lab) में अक्टूबर माह में 11 लोगों की रिपोर्ट स्क्रब टाइफ़स (scrub typhus) पॉज़िटिव आई है। ये सभी मरीज बनारस सहित आस-पास के जिले के हैं। सभी बीएचयू अस्पताल में इलाज के लिए आए थे। चिकित्सकों के अनुसार, स्क्रब टाइफ़स माइट यानि कीड़े के काटने से होने वाला बुखार है।

घर से स्कूल के लिए निकली 3 सहेलियाँ रास्ते से अचानक हुईं गायब, मचा कोहराम….

इस बुखार में भी डेंगू (dengue) जैसे मिलते-जुलते लक्षण होते हैं। यह बीमारी डेंगू से ज़्यादा खतरनाक है। डेंगू के साथ स्क्रब टाइफ़स का भी प्रकोप बढ़ गया है। बीएचयू के माइक्रोबायोलॉजी लैब में जुलाई महीने से स्क्रब टाइफ़स की जाँच हो रही है। यहाँ पर स्क्रब टाइफ़स की सिर्फ उन्ही मरीजों की जाँच होती है जो बीएचयू में इलाज कराने आते हैं।

2022 का चुनाव भाजपा के लिए साबित हो सकता है बड़ी चुनौती….

बीएचयू में जुलाई से अब तक लैब (lab) में जाँच के लिए 63 सैंपल (sample) आए हैं। इसमें 24 लोगों की रिपोर्ट पॉज़िटिव (positive) आई है। वहीं 39 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव (negative) आई है। वहीं अगर सिर्फ अक्टूबर महीने की बात की जाए तो माइक्रोबायोलॉजी लैब में 23 सैंपल आए हैं। इसमें 11 सैंपल की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है।

120 वर्षों से चली आ रही ठाकुर तिलकधारी सिंह बाल रामलीला समिति कुद्दुपुर का हुआ शुभारंभ ।

अगर देखा जाए तो बीएचयू में आने वाले सैंपल में करीब 47 फीसदी रोगी पॉज़िटिव हुए हैं। ऐसे में काफी खतरा है। आईएमएस (IMS) बीएचयू के माइक्रोबायोलॉजी लैब के प्रो. गोपालनाथ ने बताया कि हमारे यहाँ पर बीएचयू में भर्ती होने वाले मरीजों की ही स्क्रब टाइफ़स की जाँच हुई है। इसमें सिर्फ अक्टूबर में ही 11 रोगी (patients) मिले हैं।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स की नहीं होंगी सेमेस्टर परीक्षा, बच्चे होंगे प्रमोट….

Leave A Reply

Your email address will not be published.