चाय व पंचर की दुकान चलाने वाले 5वीं पास व्यक्ति ने बनाया हवा से चलने वाला इंजन

0

आगरा। अंग्रेजी कवि विलियम वर्ड्सवर्थ (Poet William Wordsworth) की एक कविता का हिंदी अर्थ है – हवा को न तुमने देखा है न मैंने, पर जब लटकती हुई पत्तियाँ हिलती हैं, तो उनके पास से गुज़रती हुई हवा महसूस की जा सकती है। आगरा (Agra) के रहने वाले एक शख़्स ने एक रोज ऐसी ही हवा महसूस की, उसकी ताकत पहचानी और फिर बना डाला हवा से चलने वाला इंजन (air engine)।

माफ़िया अतीक अहमद की प्रॉपर्टी जब्त करने की शुरू हुई तैयारी….

जी हाँ, चाय और पंचर की दुकान चलाने वाले पाँचवी पास यह शख़्स हैं फतेहपुर सीकरी (Fatehpur Sikri) के रहने वाले त्रिलोकी। उनका दावा है कि उन्होंने अपने साथियों के संग मिलकर जिस इंजन का निर्माण किया है, वह हवा की ताकत से चलता है।

सम्पूर्ण समाधान दिवस पर किसानों ने एसडीएम सदर से की शिकायत….

वह कहते हैं कि अगर इस तकनीक का इस्तेमाल कर गाड़ियों का इंजन बनाया जाए तो प्रदूषण (pollution) के बड़े हिस्से से हमें छुटकारा मिल जाएगा। त्रिलोकी का दावा है कि इस तकनीक से इंजन बनाकर मोटरसाइकिल से लेकर ट्रेन तक चलाई जा सकती है, बस इंजन को गाड़ी की शेप के हिसाब से मेडिफ़ाइ (modify) करना होगा।

भारतीय सामाजिक न्याय मोर्चा व जनता दल लोकतांत्रिक के कई बड़े नेता हुए सपा में शामिल

Leave A Reply

Your email address will not be published.