ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

राजधानी लखनऊ के एक कम्पोज़िट स्कूल में दो साल से अँधेरे में पढ़ने को मजबूर हुए बच्चे

0

लखनऊ। लखनऊ (Lucknow) शहर के बीचोबीच स्थित नगर क्षेत्र के कम्पोजिट विद्यालय (composite school) निराला नगर को मॉडल विद्यालय (model school) बनाने की तैयारी चल रही है। एक तरफ बेसिक शिक्षा विभाग (Basic education department) परिषदीय विद्यालयों को मॉडल विद्यालय बनाना चाहता है तो वहीं दूसरी ओर परिषदीय विद्यालयों (council schools) के प्रति विभाग की उदासीनता भी दिखती है।

वाराणसी में कक्षा 3 की मात्र 9 वर्षीय छात्रा के साथ स्कूल के सफाईकर्मी ने किया दुष्कर्म

कम्पोजिट विद्यालय में पिछले दो साल से बच्चे कभी भीषण गर्मी तो कभी अँधेरे में पढ़ने को मजबूर है क्योंकि दो साल पहले काटा गया इस विद्यालय का बिजली कनेक्शन (electricity connection) आज तक बकाया भुगतान करने की वजह से नहीं जोड़ा जा सका है। इसके साथ ही जिले में एक दर्जन से अधिक विद्यालय और हैं जहाँ बिजली कनेक्शन बकाया बिल (outstanding bill) का भुगतान नहीं होने की वजह से कटे हुए हैं। 

मेट्रिमोनियल वेबसाइट पर फेक एक्साइज़ अधिकारी बन युवती को परेशान करने वाले युवक पर दर्ज हुई FIR

कम्पोजिट विद्यालय निराला नगर (Nirala Nagar) में 208 छात्र-छात्राएँ पंजीकृत (registered) हैं। उपस्थिति भी अच्छी रहती है लेकिन बिजली नहीं होने की वजह से छात्र-छात्राओं के साथ ही शिक्षक-शिक्षिकाओं को भी समस्या होती है। साल आठ नवम्बर 2019 को पाँच लाख 95 हजार 215 रुपए का बिजली का बिल बकाया होने की वजह से बिजली विभाग ने कनेक्शन काटने के साथ ही मीटर (meter) भी उतार के ले गए थे। उसके बाद दो साल होने को आ गए हैं लेकिन हालात पहले की तरह है।

गर्मी के मौसम में पंखे नहीं चलते और जाड़े के मौसम में ठण्ड से बचने के लिए खिड़की और दरवाजे बंद कर के अंधेरे में पढ़ाई (study) करायी जाती है। जिससे छात्रों के अलावा शिक्षकों की आँखों पर भी नकरात्मक प्रभाव (negative impact) पड़ता है

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.