ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

मऊ विधानसभा में दो परिवारों के बीच छिड़ी है चुनावी जंग, अब्बास अंसारी होंगे बादशाह या अशोक सिंह के सिर पर सजेगा ताज..?

0

मऊ। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) केc (Mau Sadar Vidhansabha Seat) पर उम्मीदवारों के चुनाव (Election) पर तो दाँव लगा ही है, इसके अलावा दो ताकतवर परिवारों की पुरानी रंजिश (old enmity) का मसला भी है। अपने भाई की हत्या के लिए न्याय (justice) चाहने वाला एक प्रत्याशी (Candidate) हत्या (murder) के आरोपी के बेटे के विरुद्ध चुनाव (election) लड़ रहा है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रत्याशी अशोक सिंह (Ashok Singh), बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के बेटे अब्बास अंसारी (Abbas Ansari) के खिलाफ खड़े हैं जो सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (Suheldev Bhartiya Samaj Party) से उम्मीदवार हैं।

यूक्रेन से वतन वापसी कर रहे 767 लोग, UP के 37 लोगों को सकुशल उनके घर पहुँचाने के लिए यूपी सरकार ने की समुचित व्यवस्था

प्रदेश में सात मार्च को होने वाले मतदान (voting) से पहले इन दोनों उम्मीदवारों के बीच निजी हमले और जुबानी जंग जारी है। सिंह का कहना है कि बुलडोजरों की “सर्विसिंग” करा ली गई है और 10 मार्च के बाद उन्हें माफ़िया (अंसारी) के खिलाफ चलवाया जाएगा। सिंह (Ashok Singh) के परिवार का आरोप (allegation) है कि उनके भाई अजय प्रकाश सिंह ‘मुन्ना’ की हत्या में मुख्तार (Mukhtar Ansari) का हाथ था। वहीं, दूसरी ओर अब्बास अंसारी हैं जो अपने पिता की जीती हुई सीट को बचाना चाहते हैं। मुख्तार वर्तमान में बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) से विधायक (MLA) हैं और वह 1996 से लगातार पाँच बार जीत चुके हैं।

खेल में शूटर और पीला गमछा धारण करने वाले 30 वर्षीय अब्बास ने पीटीआई-भाषा से कहा, “यह चुनाव सरकार (government) और सत्तारूढ़ (ruling) लोगों के खिलाफ है। वे (भाजपा) नहीं चाहते कि वह (मुख्तार) चुनाव लड़ें इसलिए उन्होंने साजिश रची और उन्हें नामांकन (nomination) नहीं भरने दिया इसलिए मैं चुनाव लड़ रहा हूँ।” सिंह ने कहा, “यहाँ 25 साल से एक माफ़िया विधायक रहा है। उसे हार का डर है इसलिए भाग गया। 

वाराणसी में PM मोदी हुए भावुक, कहा यहीं काशी में मेरे प्रतिद्वंदियों ने माँगी मेरी मौत की दुआएँ

अब उसने अपने बेटे को उतारा है। मुख्तार लड़ें या उनका बेटा एक ही बात है।”अपने विरोधी की आलोचना करते हुए सिंह ने कहा कि वह माफ़िया डॉन के बेटे हैं और उनकी परवरिश अपराध (crime) के साए में हुई है इसलिए उनका व्यवहार मुख्तार अंसारी की तरह ही होगा। सिंह ने कहा, “हमें मऊ (Mau) को माफ़िया मुक्त बनाना है। जो विकास एक जनप्रतिनिधि को करना चाहिए और रुका हुआ है उसे अब पूरा करना है।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.