ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

ख़त्म होने वाला है मोदी का “चुनावी ऑफ़र”, जल्दी से सब अपने टैंक फुल करवा लो, राहुल गाँधी ने कसा केंद्र सरकार पर तंज

0

नई दिल्ली। कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) ने विधानसभा चुनाव (Assembly elections) के दौरान पेट्रोल एवं डीजल (Petrol & Diesel Prices) की कीमतों में बढ़ोत्तरी (increase) नहीं होने को लेकर केंद्र सरकार (Central government) पर निशाना साधा है। राहुल गाँधी ने शनिवार को ट्वीट (tweet) करते हुए कहा, जनता को अपनी गाड़ी का टैंक फुल करवा लेना चाहिए, क्योंकि मोदी सरकार (Modi government) का ‘चुनावी ऑफ़र’ (election offer) खत्म होने जा रहा है।

यूक्रेन से भारतीय छात्रों की सुरक्षित वतन वापसी का विधानसभा चुनावों में BJP पर पड़ेगा सकारात्मक प्रभाव, अमित शाह

कांग्रेस का दावा है कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) समेत पाँच राज्यों में विधानसभा चुनाव की वजह से पिछले कुछ सप्ताह से पेट्रोल-डीजल के दाम नहीं बढ़े हैं और चुनाव पूरे होने के बाद इसमें बढ़ोत्तरी निश्चित होगी। कई रिपोर्ट (report) में यह भी कहा गया है कि मौजूदा समय में कच्चे तेल के दाम के हिसाब से पेट्रोल-डीजल का रेट तय किया जाता है तो 10 से 12 रुपये प्रति लीटर तक की बढ़ोतरी हो सकती है।

मेरठ में टला बड़ा रेल हादसा, सहारनपुर-दिल्ली पैसेंजर ट्रेन में लगी आग, कई यात्री हुए घायल….

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज़ (ICICI securities) ने अपनी रिपोर्ट में कहा हो कि दो महीनों में अंतरराष्ट्रीय स्तर (international level) पर कच्चे तेल (Crude oil) के दाम बढ़ने से खुदरा तेल कंपनियों (retail oil companies) को लागत (Cost) निकालने के लिए 16 मार्च 2022 या उससे पहले ईंधन (fuel) की कीमतों में 12.1 प्रति लीटर की वृद्धि करनी होगी। तेल कंपनियों के मार्जिन (margin) को भी जोड़ लें तो 15.1 रुपये प्रति लीटर की मूल्य बढ़ोत्तरी करनी पड़ सकती है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत गुरुवार को 120 डॉलर प्रति बैरल के पार चली गई थी, जो बीते नौ वर्षों में सबसे ज़्यादा है।

हालांकि शुक्रवार को इसकी कीमत थोड़ी घटकर 111 डॉलर प्रति बैरल पर आ गई। उल्लेखनीय है कि कच्चे तेल की कीमत में उछाल को रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine War) से जोड़कर देखा जा रहा है। रूस पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों (economic sanctions) से वैश्विक तेल आपूर्ति (global oil supply) में और रुकावट आने की संभावना है। जबकि ईरान (Iran), वेनेज़ुएला (Venezuela) जैसे देश पहले ही प्रतिबंधों के कारण पर्याप्त तेल आपूर्ति नहीं कर पा रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.