ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

फ्रूट ड्रिंक पीने वाले हो जाएँ सावधान, बस अड्डे पर कानपुर पुलिस के हाथ लगी 3600 एक्सपायरी फ्रूट ड्रिंक्स की बोतलें

0

कानपुर। कानपुर (Kanpur) के झकरकटी बस अड्डे (Jhakarkati bus stand) पर यात्रियों (passengers) को बेचने के लिए लाई गई एक्सपायरी फ्रूट ड्रिंक्स (expiry fruit drinks) की 3600 बोतलें मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी (Chief Food Safety Officer) की टीम के हाथ लगी है। माफ़ियाओं ने बस अड्डे के सामने पास ही एक माल बोतलें छिपाकर रखी थीं। टीम ने कार्रवाई करते हुए फ्रूट ड्रिंक को नाली में फेंकवा दिया।

STF की जाँच से हुआ खुलासा, बलिया से लीक हुआ था अंग्रेजी का पेपर, पुलिस ने मास्टरमाइंड समेत 10 को दबोचा

साथ ही सैंपल लेकर जाँच (investigation) के लिए भेजा दिया है। इस पूरे मामले को लेकर सहायक आयुक्त खाद्य विजय प्रताप सिंह ने बताया कि टाटमिल चौराहा स्थित गैंजेज कंपाउंड में राहुल गुप्ता और मनोज गुप्ता द्वारा एक्सपायरी फ्रूट ड्रिंक बेचने की जानकारी मिली थी। जिस पर टीम तैयार कर छापेमारी (raid) के निर्देश दिए गए। मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजय कुमार सिंह के नेतृत्व में टीम ने शुक्रवार को छापा मारा तो माजा ब्रांड (Mazza brand) की 3600 बोतल बरामद हुई। ये 150 गत्तों में रखी हुई थी। छापे के दौरान जब बोतलों की जाँच की गई तो सभी बोतले एक्सपायरी डेट की मिलीं।

BJP सांसद मुकेश राजपूत ने फ़र्रूख़ाबाद का नाम बदलकर पांचालनगर करने की सीएम योगी से की माँग

प्रत्येक बोतल में 600 मिली फ्रूट ड्रिंक की थी सभी बोतलों को नाले में फेंकवा कर नष्ट कर दिया गया है। इन बोतलों की कीमत लगभग 1 लाख 8 रुपये है। गर्मी आते ही कोल्ड ड्रिंक (Cold drink) और फ्रूट ड्रिंक का कारोबार (business) जोर पकड़ने लगा है, लेकिन कुछ लोग फ्रूट ड्रिंक पीने से पहले एक्सपायरी डेट नहीं देखते। यही कारण है कि शुक्रवार को कानपुर में 3600 बोतलें (2160 लीटर) माजा फ्रूट ड्रिंक का एक्सपायरी माल पकड़ा गया। इसे गर्मी के सीजन में मार्केट में खपाने की तैयारी थी।

यात्रा के दौरान यात्री बस और ट्रेन (train) पकड़ने की जल्दी में एक्सपायरी डेट नहीं देखते। वहीं दुकानदार एक्सपायरी डेट की फ्रूट ड्रिंक सस्ते दामों में खरीद लेते हैं और यात्रियों को एमआरपी रेट (MRP rate) पर बेच कर मोटा पैसा कमाते हैं। बड़ी संख्या में फ्रूट ड्रिंक की एक्सपायरी बोतलों को नष्ट करने के लिए वहाँ मौजूद नाले को खोलकर सभी बोतलों को उसमें खाली किया गया। 150 गत्तों में 3600 बोतलों को खाली करने में अधिकारियों (officers) से लेकर वहाँ मौजूद बच्चों ने भी अपनी भूमिका निभाई। बोतलों को खाली करने में 5 से 6 लोगों को करीब 2 घंटे का समय लग गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.