ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

उत्तर प्रदेश में अगले सत्र से नए पैटर्न पर आयोजित होगी UP बोर्ड परीक्षा, ग्रेजुएशन में ग्रेडिंग सिस्टम होगा लागू

0

लखनऊ। यूपी बोर्ड परीक्षाओं (UP Board Exams) को लेकर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में बड़ा बदलाव किया गया है। अगले सत्र से हाईस्कूल (Highschool) की परीक्षा नए पैटर्न (new pattern) पर आयोजित की जाएगी। तो वहीं, इंटरमीडिएट (Intermediate) की परीक्षाओं में भी साल 2025 के अंदर नए पैटर्न प्रोग्राम लागू होगा।

इतना ही नहीं, ग्रेजुएशन (graduation) में अब ग्रेडिंग सिस्टम (grading system) लागू किया जाएगा। यूपी बोर्ड परीक्षा में इस नए पैटर्न प्रोग्राम को लागू करने को लेकर माध्यमिक शिक्षा विभाग (Secondary Education Department) ने अपना प्रेजेंटेशन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के सामने भी बताया।

साथ ही, शिक्षक विभाग (education department) ने यह भी बताया कि अगले 5 सालों में सभी ब्लॉक में हाईस्कूल और इंटर कॉलेज स्थापित करने की कार्ययोजना (work plan) भी बनाई गई है। तो वहीं, सीएम योगी ने कहा कि सभी विद्यालयों में स्मार्ट क्लास रूम (smart class room), रियल टाइम मॉनिटरिंग (real time monitoring), स्टूडेंट ट्रैकिंग सिस्टम (student tracking system) और एकीकृत डाटा प्रबंधन प्रणाली (Integrated Data Management System) की व्यवस्था लागू होनी चाहिए।

लखनऊ में प्रत्येक शुक्रवार को आयोजित किया जाएगा “महिला समस्या निराकरण दिवस”

इस नई योजना के तहत, माध्यमिक शिक्षा परिषद हाई स्कूल बोर्ड परीक्षा 2023 में नए पैटर्न लागू करेगा। इसमें एक प्रश्न पत्र बहुविकल्पीय (multiple choice questions) होगा जिसका उत्तर ओएमआर शीट (OMR sheet) पर देना होगा। वहीं, 2025 के सत्र में इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा में भी बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र का पैटर्न लागू किया जाएगा। इसके साथ ही विद्यार्थियों को रोजगार (employment) से जोड़ने के लिए 9वीं व 11वीं में इंटर्नशिप प्रोग्राम (internship program) लागू किया जाएगा।

इस रोजगार परक शिक्षा के लिए कौशल विकास (Kaushal Vikash) का प्रशिक्षण और प्रमाण पत्र विद्यार्थियों को दिया जाएगा। सभी विद्यालयों में स्मार्ट क्लासरूम, रियल टाइम मॉनिटरिंग, स्टूडेंट ट्रैकिंग सिस्टम और डाटा मैनेजमेंट की व्यवस्था लागू की जाएगी। अगले 100 दिन में सभी जीआईसी (GIC) व जीजीआईसी (GGIC) में वाई-फाई की सुविधा (wi-fi facilities) दी जाएगी। हर विद्यालय की अपनी वेबसाइट (website) होगी और उनके छात्रों की ईमेल आईडी (e-mail ID) बनेगी।

UP के सरकारी स्कूलों में मिड डे मील बनाने वाली हेल्परों को 6 महीने से नहीं मिला मानदेय

राजकीय विद्यालय (government school) में बायोमेट्रिक (biometrics) से अटेंडेंस की व्यवस्था शुरू की जाएगी, इसके साथ ही अगले 5 साल में प्रत्येक ब्लॉक पर आईटीआई (ITI) की स्थापना व प्रतियोगी परीक्षाओं (competition exams) की तैयारी कर रहे बच्चों के लिए अभ्युदय कोचिंग (Abhyuday coaching) का संचालन शुरू करवाया जाएगा। साथ ही निजी विश्वविद्यालयों की स्थापना के आवेदन के लिए ऑनलाइन पोर्टल (online portal), पाँच राजकीय महाविद्यालयों और तीन राज्य विश्वविद्यालयों में इंक्यूबेटर्स (incubators) का शुभारंभ किया जाएगा।

वहीं, यूपी में ग्रेजुएशन (graduation) के स्टूडेंट्स के लिए अब ग्रेडिंग सिस्टम लागू किया जा रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उच्च शिक्षा विभाग की बैठक के बाद निर्देश जारी कर दिए गए हैं। निर्देश के मुताबिक, यूपी (UP) के सभी विश्वविद्यालयों और निजी विश्वविद्यालयों में बीए (B.A), बीकॉम (B.Com) और बीएससी (B.Sc) में अब ग्रेडिंग के जरिए ही अंक मिलेंगे। यह ग्रेडिंग व्यवस्था 10 प्वाइंट्स की होगी। हर लिखित और प्रयोगात्मक परीक्षा (practical exams) का पास पर्सेंटेज (passing percentage) 33 फीसदी ही रहेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.