ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

जौनपुर : वर्तमान परिवेश में मूल्य आधारित शिक्षा की आवश्यकता

0

जौनपुर : अपोलो वर्ल्ड स्कूल , छातीडीह, चक्के, जौनपुर के तृतीय स्थापना दिवस के अवसर पर सरस्वती वंदना एवं स्वागत गीत के साथ कार्यक्रम शुरू हुआ जिसमें विद्यार्थियों ने अपने विविध प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों के द्वारा उपस्थित अतिथियों एवं छात्र छात्राओं का मन मोह लिया । कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रबंधक श्री प्रवीण मिश्र जी ने सभी का स्वागत किया और यह कहा कि शिक्षा सरकार और बाजार से नहीं वरन समाज के हाथ में होना चाहिए ।


मुख्य अतिथि सेवानिवृत्त आई एफ एस श्री राजीव कुमार सिंह ने कहा कि शिक्षा संस्थाएं हमें भावी पीढ़ी हेतु तैयार करती हैं किसी भी शिक्षण संस्था के सम्यक विकास के लिए संसाधन आवश्यक होते हैं ।

हमें ध्यान देना होगा कि इन संसाधनों का उचित उपयोग करते हुए भी हम नैतिकता एवं मूल्य पर विशेष ध्यान दें क्योंकि ज्ञान के समान पवित्र कोई अन्य वस्तु नहीं है। आवश्यकता इस बात की है कि वर्तमान में हम अधिक से अधिक वृक्ष लगाएं और प्रकृति के निकट अपने को ले जाएं ।

ज्ञानवापी मस्जिद प्रबंधन की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

विशिष्ट अतिथि शिक्षक शिक्षा विभाग टीडी कॉलेज जौनपुर में प्रोफेसर अजय कुमार दुबे ने कहा शिक्षा संस्थाओं में हमें ज्ञान के साथ-साथ मूल्य और नैतिकता आधारित शिक्षा पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है जिससे विद्यार्थी अपने को भारतीय समाज और संस्कृत में पारंगत बना सकें, आज मूल्यों का संकट बढ़ता जा रहा जा रहा है। जीवन की सार्थकता और सफलता का मूल आधार व्यक्ति के गुण हैं जो उसे मानवीय बनाते हैं जिन्हें संवेदना और करुणा रूप में दया, सेवा भावना, परोपकार के रूप में हम देखते हैं ।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने जारी की ताजमहल के बंद 22 कमरों की तस्वीरें, रेनोवेशन के चलते ली गई थीं फोटोज़

असल में यही गुणवत्ता बुनियाद है जिस पर खड़े होकर मनुष्य अपने जीवन को सार्थक बनाता है ।
स्थापना दिवस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के पूर्व कुलपति प्रोफेसर डी डी दुबे ने कहा कि आज पूरा राष्ट्र गिरते हुए शिक्षा स्तर से चिंतित है शिक्षा में शिक्षक की भी जवाबदेही तय होनी चाहिए क्योंकि शिक्षण कार्य शिक्षक पूर्ण मनोयोग से कार्य करें जैसे कि उनसे अपेक्षा की जा रही है और वर्तमान परिवेश में शिक्षक जब अपने कर्तव्यों की पूर्ति करेगा तथा समाज अभिभावक एवं प्रशासन को मिलकर शिक्षक की जवाबदेही के साथ साथ समाज को भी आगे बढ़ कर के जो भी संसाधन हैं ।

उनका संपूर्ण उपयोग हो सके और व्यापक स्तर पर छात्रों में भी अध्ययन अभिरुचि ,मानवीय मूल्यों , अनुशासन आज की प्रवृत्ति तथा व्यक्तित्व में किस सीमा तक विकास हो रहा है सभी लोग इस पर ध्यान दें।

स्वागत अपोलो श्री प्रिय मित्र ने विद्यार्थी एवं शिक्षकों को पूर्ण रूप से अपने दायित्व के निर्वहन पर बल दिया । कार्यक्रम का संचालन श्री अमित कुमार ने किया एवं शिक्षिका श्वेता मिश्रा सोनी निकिता, मंगेश दुबे और श्री टी एन मिश्र, जनहित महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ विजय कुमार मौर्य ने संबोधित करते हुए विभिन्न नवाचारों का उल्लेख किया। आभार अपोलो वर्ल्ड स्कूल के निदेशक श्री प्रभात रंजन त्रिपाठी ने व्यक्त किया ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.