ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

आज गंगा दशहरा के अवसर पर वाराणसी के घाटों पर आस्था की डुबकी लगा रहे लोग, दान-पुण्य का उठा रहे लाभ

0

वाराणसी। आज गंगा दशहरा (Ganga Dussehra) है। इस अवसर पर वाराणसी (Varanasi) के सभी घाटों पर लोग आस्था और श्रद्धा की डुबकी लगा रहे हैं। मान्यता है कि इस दिन स्नान कर दान (Charity) करने से उन्हें अक्षय पुण्य का लाभ होता है।

बनारस (Banaras) के अलावा बिहार-झारखंड (Bihar-Jharkhand) में भी लोग गंगा (Ganga) समेत अन्य नदियों (जहाँ गंगा नहीं बहती) में स्नान कर दान-पुण्य कर रहे हैं। माना जाता है कि राजा भागीरथ (Raja Bhagirath) अपने पुरखों (ancestors) को तारने के लिए गंगा को आज के ही दिन स्वर्ग (Heaven) से पृथ्वी (Earth) पर लेकर आए थे। तब से गंगा भारतवर्ष (Bharatvarsh) की जीवन रेखा बनी हुई है। हिंदू धर्म (hindu religion) में गंगा दशहरा को बेहद खास महत्व दिया गया है।

UP में BJP मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव को दे सकती है MLC का टिकट

धार्मिक मान्यता है कि ज्येष्ठ शुक्ल दशमी तिथि को माँ गंगा का आगमन हुआ था। मतलब इस दिन माँ गंगा स्वर्ग से धरती पर आई थीं। माना जाता है कि गंगा दशहारा के दिन गंगा स्नान करने से सभी पाप (Sin) धुल जाते हैं। इसके अलावा इस दिन दान का भी विशेष महत्व है। गंगा दशहरा के दिन गंगा नदी में स्नान करने की परंपरा है, इसलिए लोग इस दिन गंगा में डुबकी लगाते हैं। आप चाहें तो अपने आस-पास के किसी अन्य नदी या तालाब में भी स्नान कर सकते हैं।

डच सांसद के नए बयान ने फिर खड़ा कर दिया हंगामा , इन्होंने पैगम्बर विवाद पर नूपुर शर्मा का किया था समर्थन

स्नान के वक्त ‘गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती, नर्मदे सिन्धु कावेरी जले अस्मिन् सन्निधिम् कुरु’ इस मंत्र (mantra) का जाप किया जा सकता है। अगर इस दिन गंगा या किसी अन्य नदी में स्नान करने का संयोग नहीं बन रहा है तो घर पर ही स्नान के पानी में गंगाजल (gangajal) मिलाकर स्नान कर सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.