ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

सोशल मीडिया पर भारत बंद की अफ़वाह को देखते हुए पुलिस ने वाराणसी को छावनी में किया तब्दील

0

वाराणसी। सेना भर्ती (army recruitment) के लिए केंद्र सरकार (central government) की नई योजना अग्निपथ (Agnipath scheme) के विरोध में सोमवार को सोशल मीडिया (social media) पर भारत बंद की अफ़वाह (India bandh rumour) को देखते हुए वाराणसी पुलिस (Varanasi police) अलर्ट मोड (alert mode) में है। पूरे शहर को छावनी में तब्दील (converted into camp) कर दिया गया है। रेलवे स्टेशन (railway station) से लेकर हाईवे (highway) तक पुलिस के साथ-साथ पीएसी (PAC) और आरएएफ (RAF) की टुकड़ी भी लगाई गई है। या फिर यूँ कहें कि वाराणसी का चप्पा-चप्पा पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। गौरतलब है कि अग्नीपथ योजना का पूरे उत्तर भारत (North India) में जबरदस्त विरोध हो रहा है।

अग्निपथ का देश में अब भी दिख रहा असर: हिंसक घटनाओं के चलते दो दर्जन से अधिक ट्रेनें की गईं रद्द

बीते 17 जून को बनारस (Banaras) में भी उपद्रवियों (miscreants) ने घंटो तक उत्पात मचाया था। कैंट रेलवे स्टेशन (cantt railway station) व कैंट रोडवेज (cantt roadways) के साथ ही आसपास के इलाकों में जमकर तोड़फोड़ की गई थी। जिसके बाद सोशल मीडिया पर आज यानी 20 जून को भारत बंद की ख़बरें वायरल (news viral) होने लगी। जिसके बाद वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस (Varanasi Commissionerate Police) पूरी तरह से अलर्ट मोड में आ गई। किसी भी तरह की अप्रिय घटना न हो इसके लिए शहर को छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

हाईवे (Highway) पर आने जाने वाले बसों पर भी सचल दस्ता (mobile squad) की निगाहें जमी हुई हैं। एहतियात के तौर पर वाराणसी के 8 सैनिक कोचिंग संस्थानों (coaching institutes) को भी नोटिस दिया गया है। इसके साथ ही वाराणसी ग्रामीण के चोलापुर (Cholapur), चौबेपुर (Chaubeypur) व बड़ागाँव (Badagaaon) जैसे ग्रामीण थानों में दर्जनों संदिग्ध लोगों को पहचान कर उनको रविवार रात से ही थानों (police stations) पर बैठाया गया है।

सपा के वरिष्ठ नेता आज़म खाँ का योगी सरकार पर बड़ा आरोप, कहा ताकत के दम प्रदेश में तानाशाही कर रही सरकार

बीते 17 जून को वाराणसी में भारी उपद्रव किया गया था, जिसके बाद वाराणसी में कुल 9 FIR दर्ज की गई थी और 27 को को जेल (Jail) भेज दिया गया था। 57 अन्य को चिन्हित करके उनकी गिरफ़्तारी की कोशिश की जा रही है। वाराणसी जिला प्रशासन (District administration) ने बताया कि करीब 12 लाख से ज़्यादा रुपए की सार्वजनिक संपत्ति (public property) को नुकसान पहुँचाया गया था। इन सभी संपत्तियों की भरपाई गिरफ़्तार (arrest) किए हुए लोगों से की जाएगी।

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में कार व कंटेनर की हुई जोरदार भिड़ंत, एक ही परिवार के 4 सदस्यों की मौकै पर हुई मौत

Leave A Reply

Your email address will not be published.