ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

अनुब्रत मंडल ऐसे चलाता था पशु तस्करी का नेटवर्क! CBI ने किया खुलासा….

0

अनुब्रत : मंडल सीबीआई की हिरासत में हैं। सीबीआई ने लगातार उनसे पूछताछ कर रही है। सीबीआई पूछताछ में खुलासा हुआ है कि बीरभूम में दो बड़े पशु बाजार हैं। कथित तौर पर अनुब्रत मंडल वहां से गो तस्करी नेटवर्क का संचालन करता था। बता दें कि बीरभूम जिले के इलामबाजार प्रखंड के सुखबाजार में एक पशु बाजार है। दूसरा मुराई के 2 ब्लॉक के हियातनगर में है। उनमें से सुखबाजार का पशु बाजार आकार और व्यवसाय की मात्रा के मामले में बहुत बड़ा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गायों को इस बाजार से मुर्शिदाबाद सहित विभिन्न जिलों और यहां तक ​​कि पड़ोसी देशों में तस्करी कर लाया जाता है। इस कारोबार में लिप्त कारोबारी सीबीआई की लिस्ट में हैं।

जीजा को बोली यमुना में डालना है सिक्का, पुल से लगा दी मौत की छलांग….

गायें इलामबाजार से या बोलपुर होते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग के रास्ते नलहाटी पहुंचती थीं। वहां से चतरा होते हुए हयातनगर रोड से सटे गाय बाजार तक जाती थी। गायों को ले जाने से पहले वहीं रोका जाता था. स्थानीय पशु व्यापारी उस स्थान को ‘आरडी’ कहते हैं। इसे ‘बांग्ला खटाल’ के नाम से भी जाना जाता है। व्यापारियों के मुताबिक वहां गायों की देखभाल के लिए लोग मौजूद थे। सीमा से एक ‘सिग्नल’ प्राप्त करने के बाद (जिस रात गायें अंतरराष्ट्रीय सीमा पार करेंगी), गायों को रात के अंधेरे में ट्रकों में लाद दिया जाता था और हयातनगर जंक्शन, उमरपुर के रास्ते जंगीपुर ले जाया जाता था। दूसरा रास्ता था सागरदिघी का।

दिल्ली में बारिश की संभावना, जानें यूपी-बिहार सहित अन्‍य राज्य का मौसम….

उस समय, हयातनगर जंक्शन से जाने के बजाय, गायों से लदे ट्रक नलहाटी, मोरग्राम होते हुए सागरदिघी में प्रवेश करते थे। कुछ रातों में एक या दो घंटे के लिए सीमा पार लगभग ‘खुला’ रहता था. गायें इधर-उधर जाती थीं। आरोप है कि सीमा पर बीएसएफ के कुछ अधिकारियों की भी मिलीभगत रहती थी। हालांकि यह धंधा लेफ्ट पीरियड में चल रहा था, लेकिन 2013 से 2019 तक फला-फूला। उस समय खुले ट्रकों में मवेशियों की तस्करी की जा रही थी, लेकिन 2019 के अंत के बाद से कारोबार में थोड़ी गिरावट आई है। चूंकि बीरभूम एक पशु तस्करी गलियारा है, इसलिए पड़ोसी देशों के पशु तस्करों के साथ नियमित संपर्क होता है।

बुंदेलखंड, यमुना एक्सप्रेसवे जैसी सड़कों का बुना जाल….

Leave A Reply

Your email address will not be published.