ATI NEWS
पड़ताल हर खबर की ...

ऑनलाइन पेमेंट करने वालों के लिए बड़ा झटका, अब 2000 से अधिक के UPI ट्रांजैक्शन पर लगेगा चार्ज…..

0

अगर आपको भी जेब में कैश रखने की आदत नहीं है और 2 रुपये की टॉफी से लेकर 2000 रुपये के पेट्रोल का पेमेंट आप यूपीआई या डिजिटल वॉलेट से करते हैं तो सावधान हो जाइए। क्योंकि 1 अप्रैल से पेटीएम, गूगल पे, फोन पे के जरिए होने वाले 2000 रुपये से अधिक के यूपीआई ट्रांजेक्शन पर सरकार फीस वसूलने की तैयारी कर रही है। नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने इसके संबंध में एक सर्कुलर जारी किया है। इस सर्कुलर में बताया गया है कि यूपीआई से मर्चेंट ट्रांजैक्शंस पर प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स फीस लागू होगी। यह फीस 2000 रुपये से अधिक के यूपीआई ट्रांजैक्शन पर देना होगा।

शुरू होने वाला है IPL 2023, एक बार फिर मैदान में उतरेंगे CSK के कप्तान महेंद्र सिंह….

आपको बता दें कि प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स वॉलेट या कार्ड के जरिए ट्रांजैक्शन पर लगता है। लेकिन नए सर्कुलर के बाद अब यही चार्ज यूपीआई ट्रांजेक्शन पर भी लगेगा।सर्कुलर में बताया गया है कि 2000 रुपये से अधिक के पेमेंट पर 1.1 प्रतिशत की इंटरचेंज फीस वसूली जाएगी। हालांकि इस सर्कुलर में यह भी कहा गया है कि इसकी समीक्षा 30 सितंबर 2023 या उससे पहले की जाएगी। पेमेंट पर इंटरचेंज फीस अलग अलग सेक्टर के लिए अलग-अलग होगी। उदाहरण के तौर पर कृषि और टेलीकॉम क्षेत्र में सबसे कम इंटरचेंज फीस वसूली जाएगी।

अब आसमान से भी कर सकेंगे रामलला के दर्शन, शुरू हुई हवाई सेवा….

यह चार्ज मर्चेंट ट्रांजैक्शंस यानी व्यापारियों को पेमेंट करने वाले यूजर्स को ही देना पड़ेगा। सरकार की रिपोर्ट के अनुसार 70 प्रतिशत से अधिक पेमेंट 2000 रुपये से अधिक के होते हैं, ऐसे में यह फैसला बड़े पैमाने पर लोगों को प्रभावित कर सकता है। सर्कुलर में बताया गया है कि यह चार्ज केवल व्यापारियों को पेमेंट करने वाले यूजर्स को ही देना पड़ेगा। इस सर्कुलर के अनुसार बैंक अकाउंट और यूपीआई वॉलेट के बीच पीयर-टू-पीयर और पीयर-टू-पीयर-मर्चेंट पर कोई चार्ज लागू नहीं होगा। ये सारे पेमेंट पुराने नियमों के अनुसार ही होंगे।

कौन जीतेगा कर्नाटक, क्या बीजेपी को हराकर कांग्रेस निकल जाएगी आगे..?

Leave A Reply

Your email address will not be published.