The ATI News
News Portal

उत्तर प्रदेश में कोरोना ने मचाया तबाही शनिवार को आए 27 हजार से अधिक मामले , इतने लोगों की हुई मौते ।

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

पूरी दुनिया में कोरोना नें तबाही मचा रखा है ,कोरोना के आये हुए एक साल से ऊपर हो गए लेकिन यह महामारी यह से जाने का नाम नहीं ले रही है । बता दें उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में शनिवार को मामूली कमी नजर आई। शुक्रवार को जहां 27426 मामले सामने आए थे वहीं शनिवार को 27357 नए संक्रमित पाए गए हैं। वही , 120 लोगों की मौतें भी हुई है। वहीं, लखनऊ में 5913 नए संक्रमित मिले हैं। हालांकि, प्रदेश में कोरोना के कारण हालात लगातार भयावह बने हुए हैं जिसे देखते हुए प्रदेश में शनिवार रात आठ बजे से सोमवार सुबह सात बजे तक 35 घंटे का कर्फ्यू लगाया गया है।

जिला अधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने चिकित्सा अधिकारी को दिए निर्देश

उत्तर प्रदेश की मुखिया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड प्रबंधन के मद्देनजर निगरानी समितियों को और अधिक सक्रिय रूप से कार्य करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की दर में बढ़ोतरी हो रही है। थोड़ी सी लापरवाही भी इस समय भारी पड़ सकती है। ऐसे में पब्लिक एड्रेस सिस्टम का भरपूर उपयोग करते हुए लोगों को जागरूक किया जाए।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को सशर्त मिली जमानत

मुख्यमंत्री ने कोविड प्रबंधन को लेकर सभी मंडलायुक्तों, जिलाधिकारियों, सीएमओ और टीम-11 के सदस्यों के साथ वर्चुअल बैठक की। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में निगरानी समितियों की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। जागरूकता के लिए प्रचार-प्रसार संबंधी सभी व्यवस्था के साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर कोविड हेल्प डेस्क सक्रिय रहे इसकी जिम्मेदारी भी निगरानी समिति की है। उन्होंने निर्देशित किया कि सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कराया जाए और आवश्यकतानुसार इंफोर्समेंट की कार्रवाई भी की जाए।

जौनपुर : गांव वालों का भ्रम है की गांव में नहीं है कोरोना

बताया गया है कि जिलों में निगरानी समितियां ग्राम प्रधानों के नेतृत्व में बनाई गई हैं। इसमें पंचायत सचिव और स्वास्थ्य विभाग से जुड़े लोगों को शामिल किया गया है। इन समितियों के माध्यम से गांव देहात से जुड़ी सूचनाएं संबंधित अधिकारियों तक पहुंचेंगी। शहरों में वार्ड के पार्षदों, मोहल्लें में सक्रिय रहने वाले लोगों, सामाजिक व महिला संगठनों के सदस्य भी समिति में हैं। निगरानी समिति से फीडबैक मुख्यमंत्री कार्यालय ने फिर लेना शुरू कर दिया है। वहां से समिति के सदस्यों को फोन कर जानकारी ली जा रही है कि उनके गांव में कोरोना की क्या स्थिति है।

गांव के लिए भी नोडल अफसर नियुक्त होंगे सरकार ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में और बेहतर इंतजाम के प्रयास शुरू किए हैं। गांवों में भी नोडल अफसर नियुक्त किए जा रहे हैं, ताकि गांव में होने वाली व्यवस्थाओं की मॉनीटरिंग बेहतर तरीके से हो सके।

Leave A Reply

Your email address will not be published.