The ATI News
News Portal

“कोरोना फाइटर्स “बेघर होने पर मजबूर

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

“कोरोना फाइटर्स “बेघर होने पर मजबूर

“Corona Fighter” forced to leave RANTED HOME

जहां एक तरफ पूरा भारत कोराेना फाइटर्स यानी कोरोना से संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर्स, नर्स,मेडिकल स्टाफ, पुलिस, सफाईकर्मी आदि लोगों का मनोबल बढ़ाने के लिए उनके प्रोत्साहन में तलिया बजाता है, वहीं दूसरी तरफ इन्हीं कोरोना फाइटर्स को घरों से बेघर होने के लिए मजबूर किया जा रहा है।कोरोना फाइटर्स बेघर होने पर मजबूर

दरअसल COVID देखभाल में शामिल डॉक्टरों, नर्सों और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को अपने किराए के घरों के मकान मालिकों द्वारा को मकान खाली करने के लिए कहा जा रहा है।कई डॉक्टर अब अपने पूरे सामान के साथ सड़कों पर फंसे हुए हैं।

"कोरोना फाइटर्स "बेघर होने पर मजबूर
Image Source By Google

भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (RDA) के महासचिव डॉ श्रीनिवास राजकुमार ने गृह मंत्री को पत्र लिखकर मकान मालिकों द्वारा भेदभाव और अनुचित व्यवहार की शिकायत की थी।मामले को तुरंत संज्ञान में लेते हुए गृह मंत्री श्री अमित शाह ने व्यक्तिगत रूप से आरडीए एम्स से बातचीत कर उन्हें आश्वासन दिया कि इस तरह के किसी भी मामले को गंभीरता से लिया जाएगा और तुरंत कार्रवाई की जाएगी।

गृह मंत्री ने मंगलवार को दिल्ली पुलिस के प्रमुख एस एन श्रीवास्तव से बात की और कोरोनो वायरस रोगियों के इलाज के लिए उत्पीड़न की शिकायतों के मद्देनजर डॉक्टरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

मंगलवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में शामिल लोगों के उत्पीड़न का जिक्र किया और इसे अनुचित बताया।

एटीआई न्यूज ऐसे सभी मकान मालिकों से विनम्र निवेदन करता है कि जिस तरह ये डॉक्टर्स अपनी और अपने परिवार की चिंता किए बगैर महामारी की इस लड़ाई में शामिल है, उनका पूरा सहयोग दे और उन्हें मकान खाली करने पर मजबूर ना करें ये व्यक्तिगत लड़ाई नहीं बल्कि पूरे देश की लड़ाई है जिसमें सभी का सहयोग आवश्यक है।….. Written By Shubham Dwivedi

भारत में लगा 21 दिनों का अबतक का सबसे बड़ा लॉक डाउन

कोरोनावायरस प्लास्टिक और स्टील पर कितने घंटे ज़िंदा रहेगा, इस रीसर्च ने आइडिया दे दिया!

Leave A Reply

Your email address will not be published.