The ATI News
News Portal

Delta plus varient ने दी मध्य प्रदेश के शिवपुरी में दस्तक,3 की हुई मौत।

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

मध्य प्रदेश: कोरोना की दूसरी लहर अभी गई ही नही की तीसरी लहर ने दस्तक डेडी ऐसे हाल ही में मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में कोरोना महामारी का एक और डरावना पक्ष सामने आया है। जिले में चार लोगों काे कोरोना से सबसे खतरनाक माने जा रहे डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई है। इनमें से तीन लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि एक व्यक्ति ने कोरोना के इस वैरिएंट को हरा भी दिया है। स्वास्थ्य विभाग ने 6 लोगों के सैंपल जीनोम टेस्टिंग के लिए भेजे थे।

 

Unlock update:दिल्ली में सोमवार से खुलेंगे रेस्टोरेंट और बार, नई guideline हुई जारी।

इनमें से विनय चतुर्वेदी, प्रेमनारायण द्वेदी, सुरेंद्र शर्मा और सूजपाल में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि हुई है। इनमें से प्रेमनारायण को छोड़ शेष तीन लोगों की कई दिनों पहले ही मौत हो चुकी है। वारयस के इस वैरिएंट के मिलने की पुष्टि से यह बात भी स्पष्ट हो रही है कि जिले में दूसरी लहर में हुई बहुत अधिक माैतों का एक कारण यह डेल्ट प्लस वैरिएंट भी रहा है। अब जब संक्रमण लगभग खत्म होने की कागार पर पहुंचा है, तब जाकर स्वास्थ्य विभाग को पता चला है कि इनकी मौत का कारण डेल्टा प्लस वैरिएंट था।

वाराणसी स्मार्टसिटी अंतर्गत राजघाट प्राइमरी स्कूल पुननिर्माण कार्य का मा० राज्यमंत्री श्री सतीश दृवेदी एवं डॉ०नीलकंठ तिवारी भूमिपूजन।

सीएमएचओ डा. एएल शर्मा ने बताया कि इन सभी लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री इंदौर और दिल्ली की रही है। संभवत वहीं से यह वायरस के इस वैरिएंट से संक्रमित हुए होंगे। जिन 6 लोगों के सैंपल रिपोर्ट के लिए भेजे गए थे, उनकी मौत में कुछ कामन फैक्टर रहे थे। इनकी मौत अचानक से हुई थी। यह वैरिएंट बहुत जल्दी शरीर के अंगों पर प्रभाव डालना शुरू करता है। साफ्टवेयर इंजीनियर विनय चतुर्वेदी की मौत अस्पताल में भर्ती होने के चार घंटे के अंदर हो गई थी। जबकि जब वे आए थे, तब उन्हें इतनी परेशानी नहीं थी। उनका इलाज कर रहे मेडिकल कालेज के चिकित्सक डा. रीतेश यादव ने बताया कि विनय चतुर्वेदी की एक दम से हालत बिगड़ी और मौत हो गई।

कोरोना से खतरे में आई सामाजिक सुरक्षा- प्रो० राघवेन्द्र

इसके बाद स्वास्थ्य विभाग को सलाह दी कि इनके सैंपल जीनोम टेस्ट के लिए भेजा जाना चाहिए, जिससे कारण पता लग सके। पिछोर के शिक्षक सुरेंद्र शर्मा की मौत के समय काफी हंगामा हुआ था और जिला अस्पताल के वार्ड बाय पर आक्सीजन सप्लाई हटाने का आरोप लगा था। जिसके चलते इनका भी सैंपल भेजा गया था। सुरेंद्र शर्मा की मौत के तीन दिन बाद उनके बेटे की भी अचानक से मौत हो गई थी। वह भी एक दिन ही अस्पताल में रह पाया था और मौत हो गई। हालांकि उसका सैंपल जीनोम टेस्टिंग के लिए नहीं भेजा गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.