अनाज बैंक

निराश्रित वृद्धाओं का सहारा बना अनाज बैंक

 

THE ATI NEWS | 31-05-2020

 

अनाज बैंक

  65 वर्ष के ऊपर की निराश्रित वृद्ध महिलाओं को अनाज बैंक ने खाता खोलकर सुभाष अनाज शक्ति पोटली दी।

 15 दिन के लिये अनाज देकर भोजन की गारंटी दी गयी।

 कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला आपूर्ति अधिकारी दीपक कुमार वार्ष्णेय ने सुभाष मंदिर में दीप जलाकर शुभारम्भ किया।

 मुख्य अतिथि ने निराश्रित वृद्धाओं को अनाज बैंक का पासबुक दिया।

 जिन्हें अपनों ने छोड़ा, उन्हें अनाज बैंक ने अपनाया।

 दर-दर भटकती 76 वर्षीय गुलाबी देवी को अब भोजन की गारंटी मिली।

 

वाराणसी, 31 मई। कोरोना लॉकडाउन के दौरान अनाज बैंक 68 दिनों से लगातार भूख पीड़ितों की मदद के लिये 24 घंटे की रसोई चला रहा है। अब अनाज बैंक उन निराश्रित महिलाओं का सहारा बना जो 65 वर्ष के ऊपर की हैं और अपनों द्वारा ही तिरस्कृत होकर दो वक्त के रोटी के लिये संघर्ष कर रही हैं। पति के मरने के बाद 76 वर्षीय गुलाबी देवी को उनके परिवार वालों ने शरण नहीं दी तो उनकी देखभाल करने वाला कोई नहीं रहा। दो वक्त भोजन के लिये भी उन्हें किसी न किसी के भरोसे रहना पड़ता था।

 

जानिए योगी सरकार की कोरोना से जंग के खिलाफ क्या तैयारी हैं? जो दूसरे राज्यों को पछाड़ दिया।

 

दर-दर भटकती गुलाबी देवी को अब भोजन के लिये न संघर्ष करना पड़ेगा और न भूख से तड़पना होगा क्योंकि अनाज बैंक ने गुलाबी देवी को अपना पासबुक देकर भोजन की गारंटी ली है। विशाल भारत संस्थान के कार्यकर्ताओं को सर्वे के दौरान गुलाबी देवी के बारे में जानकारी मिली। सर्वे में लमही क्षेत्र की 50 वृद्ध महिलाओं एवं विधवा महिलाओं की खराब स्थिति का पता चला। अनाज बैंक के संस्थापक संरक्षक इन्द्रेश कुमार ने अनाज बैंक के संस्थापक चेयरमैन डा० राजीव श्रीवास्तव को निर्देशित किया ताकि निराश्रित बुजुर्ग महिलाओं को तत्काल अनाज उपलब्ध कराया जा सके।

 

केजरीवाल सरकार हुई कंगाल, सैलरी देने को पैसे नहीं!

विशाल भारत संस्थान के अनाज बैंक ने सुभाष भवन, इन्द्रेश नगर, लमही, वाराणसी में सुभाष अनाज शक्ति पोटली वितरण का कार्यक्रम विशेषकर निराश्रित बुजुर्ग महिलाओं के लिये आयोजित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला आपूर्ति अधिकारी दीपक कुमार वार्ष्णेय ने सुभाष मंदिर में दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।

 

जौनपुर ,चन्दवक : देखिए कहीं आपके इलाके का कोरोना पीड़ित व्यक्ति तो नीधड़क नहीं घूम रहा ?

सुभाष अनाज शक्ति पोटली में चावल, दाल, आटा, चीनी, आलू, प्याज, तेल, नमक, चिप्स दिया गया ताकि 15 दिन के भोजन की व्यवस्था सुनिश्चित हो सके। जिला आपूर्ति अधिकारी दीपक कुमार वार्ष्णेय ने जब निराश्रित वृद्ध महिलाओं को पोटली दिया तो उनके आंखों में आंसू थे और चेहरे पर संतोष के भाव। अनाज बैंक की प्रबंध निदेशक अर्चना भारतवंशी ने बताया कि निराश्रित वृद्ध महिलाओं को अब भूख से पीड़ित नहीं होना पड़ेगा। अनाज बैंक अनाज देकर उनकी सेवा करता रहेगा।

 

 

कोरोना वायरस से मौतों का वैश्विक आंकड़ा 3 लाख 69 हजार पार।

 

मुख्य अतिथि दीपक कुमार वार्ष्णेय ने कहा कि अनाज बैंक द्वारा उपेक्षित और निराश्रित वर्ग का ख्याल रखना मानवीय सेवा का सबसे श्रेष्ठ उदाहरण है। अनाज बैंक ने कोरोना लॉकडाउन के दौरान भोजन वितरण करते समय भी भोजन की गुणवत्ता बनाये रखी। वृद्ध महिलाओं को अनाज बैंक ने भोजन की गारंटी देकर उनका सहारा बन गया है। जो उसके रिश्तेदार नहीं कर सके वह अनाज बैंक ने कर दिखाया।

 

मन की बात में बोले मोदी- ‘कोरोना से लड़ाई अभी बाकी, बरतें सावधानी’।

अनाज बैंक के संस्थापक चेयरमैन डा० राजीव श्रीवास्तव ने कहा कि निराश्रित बुजुर्ग महिलाओं की स्थिति अत्यन्त दयनीय है। रिश्ते-नातों से उपेक्षित अब बुजुर्ग महिलाओं के जीवन का संघर्ष दो वक्त की रोटी तक है। अनाज बैंक ऐसी ही निराश्रित महिलाओं को मदद करेगा जो अब कोई काम नहीं कर सकतीं। उपेक्षित और तिरस्कृत वृद्ध महिलाओं को भले ही उनका परिवार छोड़ दे लेकिन अनाज बैंक उनके लिये जीवन के अंतिम दिन तक मदद करता रहेगा।
कार्यक्रम में नजमा परवीन, डा० मृदुला जायसवाल, नाजनीन अंसारी, इली भारतवंशी, खुशी भारतवंशी, उजाला भारतवंशी, आत्म प्रकाश सिंह, ताजीम भारतवंशी ने अपना सहयोग दिया।

 

 

मन की बात में बोले मोदी- ‘कोरोना से लड़ाई अभी बाकी, बरतें सावधानी’।

 

 

जानिए कैसे किसी बड़ी से बड़ी टीम को 2 मिनट में मात दे सकता है धोनी का ये तरीका….!

 

 

सुबह की पांच बड़ी खबरें , सुपरफास्ट 5

 

 

Free Download THE ATI MAGAZINE S2 

 

 

दिल्ली से मॉस्को की उड़ान, रास्ते में पता चला पायलट को कोरोना है, 1800 किमी जा चुकी फ्लाइट वापस लौटी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *