The ATI News
News Portal

जौनपुर।पुलिस के रहमोकरम पर मुहल्लों से लेकर नगर के

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

अधिकांश लाज एवं होटलो में धड़ल्ले से देहव्यापार का रोज़गार संचालित हो रहा है। जहा शहर से लेकर ग्रामीणाचंल तक के युवक युवतिया इस कार्य को बखूबी अन्जाम देते नजर आते है। चन्द घण्टो की सुविधा के बदले होटल संचालक अच्छी एवं मोटी कमाई करते नजर आ रहे है।कुछ नामी होटलो में गैर जनपद वासियों के लिए होटलो मे लड़कियाॅ सप्लाई की जाती है। एलबम द्वारा पसन्द की गयी लड़कियो को तुरन्त काॅल करके सुविधा मुहैया करायी जाती है। समाज को दूषित करने की इस योजना में माननीय एवं सम्माननीय तक की संलिप्तता नजर आती है।

संवाददाता द्वारा जब इस गोरखधन्धे पर कुछ जानकारी चाही तो नाम न छापने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने अपनी बेबसी दर्शाते हुए बताया कि हमारे अधिकारीगण अपने उच्च अधिकारियों के रूकने के लिए होटलो में ए0सी0 कमरों की बुकिग का आदेश देते है। इस अवस्था में जानते हुए भी हमको अन्जान होना पड़ता है। चूकि अगर हम आखें बन्द नही करतें तो हम पूरी तन्ख्वाह से भी ए0सी0 कमरों का भुगतान नही कर पायेंगे। इस अवस्था में मजबूरी का फायदा उठाते हुए एंव जनमानस की आंख मे धूल झोकते हुए अधिकांश होटलो में यह गोरखधन्धा धड़ल्ले से जारी है।

चोरी की,योजना बनाते हुए चोरो को धर दबोचने मे माहिर पुलिस बन्द कमरे मे हो रही वेष्यावृत्ति को दबोचने मे असमर्थ नज़र आते है। चूकि फ्री में रहने के लिए पुलिस तथा अधिकारियों को कमरा दे दिया जाता है। तथा रात में अधिकारियों को दी गई सुविधा के बदले दिन में प्रति कमरे दर्जनो युवक-युवतियों को घण्टे के हिसाब ये सुविधा देकर धन उगाही की जाती है। अब ऐसे मे धन्धा है पर गन्दा है,की आड़ में समाज को दूषित करने वाले ठीकेदारो का क्या होगा। जिन्हे पुलिस से लेकर राजनीतियों का संरक्षण प्राप्त है। समाज में बढ़ रहे इस कुकृत्य पर पुलिस कितनी सक्रियता निभाती है यह तो जगजाहिर है। फायदे के लिए ही कायदा बिगाड़ा जाता है। और एक कहावत चरिचार्थ होता नज़र आता है। अपना काम बनता भाड़ में जाय जनता।

Leave A Reply

Your email address will not be published.