The ATI News
News Portal

जानिए 4 अप्रैल को दिल दहला देने वाली घटनाओं के बारे में ??

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

जानिए 4 अप्रैल को दिल दहला देने वाली घटनाओं के बारे में ??जानिए 4 अप्रैल को दिल दहला देने वाली घटनाओं के बारे में ?????

हर दिन…,एक-एक तारीख का इतिहास सुनहरे अक्षरों से लिखा गया है, कैलेंडर की हर तारिखों का नाता कहीं न कहीं हमसे जुड़ा हुआ है,इसलिए हर साल आने वाली तारीख हमारे सामने अपनी कहानी को जीवंत कर देती है।

4 अप्रैल

आज हम बात करेंगे 4 अप्रैल से जुडे़ इतिहास के बारे में–

मार्टिन लूथर किंग

4 अप्रैल आज  के  दिन मार्टिन लूथर किंग की हत्या गोली मारकर कर दी गयी थी।

तो कौन थे मार्टिन लूथर  ????

हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ही तरह अहिंसा मार्ग पर चलने वाले तथा अमेरिकी लोगो के हक के लिए लड़ने वाले अमेरिका के गांधी थे। इन्होंने 1954 में चले नागरिक अधिकार आंदोलन तथा नस्लभेद के खिलाफ आदोलन कर अहम भूमिका निभाई। मार्टिन लूथर किंग महात्मा गांधी से काफी ज्यादा प्रभावित थे अतः गांधी जी के सिद्धान्तो का उपयोग कर अपनी बातों को सरकार के समक्ष रखते थे ।इन्होंने अमेरिका में नस्लभेद की लड़ाई अहिंसा के रास्ते को अपनाते हुए लड़ी जिसके उपरांत इन्हें नोबेल पुरस्कार से नवाज़ा गया। मार्टिन लूथर किंग अपने होटल के बालकनी के आगे खड़े थे जब जेम्स अर्ल रे ने उन्हें गोली मारी।मार्टिन को अस्पताल ले जाया गया मगर उन्हें बचा न सके।

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर

न्यूयॉर्क में स्थित 110 मंजिलो वाली इमारत को आर्थिक दुनिया का सेंटर कहते थे।अमेरिका आने वाले सैलानी इस इमारत को देखने जरूर आते थे। एक हज़ार फिर से अधिक ऊंचाई वाली इमारत अमेरिका की मुख्य इमारतों में से एक थी। इसलिए नहीं कि यह इमारत उची थी अपितु इसलिए कि अमेरिका की बड़ी बड़ी कंपनियो के कार्यालय यह स्तिथ थे, जो अमेरिका की अर्थिक कार्यो में भागीदारी करती थी।इस इमारत को 4 अप्रैल 1978 में तैयार किया गया था। 11 सिंतबर 2001 को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमला हुआ जिससे पूरी दुनिया आज तक नही भूल पायी।जिस तरह तो प्लेन एक के बाद एक वर्ल्ड ट्रेड से टकराई। इस घटना में कफही लोगो की जान चली गयी थी

ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो

बात अगर लोकतंत्र के न्यायपालिका की करे तो न्याय सबके लिए समान होता है चाहे वह कोई किसी छोटे से कस्बे का हो या किसी राज घराने का..। ऐसा ही एक मामला पाकिस्तान के सामने आया था । 18 मार्च 1978 को पूर्व प्रधानमंत्री ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो को फाँसी की सज़ा मिली थी।ठीक एक साल बाद 4 अप्रैल 1979 को सेंट्रल जेल रावलपिंडी में सजा के तहत ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो और उनके चार साथियों के साथ नवाब मोहम्मद खां की हत्या के दोषी करार करते हुए फाँसी पर लटकाया गया था। ..  Saumya Tiwari 

Source: roar.media 

तो ये थी 4 अप्रैल से जुड़ी कुछ घटनाएं ।अगर आप आज के तारीख से जुड़े किसी इतिहास या घटना को जनते है तो कमेंट बॉक्स के ज़रिए शेयर  करे .

ये भी पढ़े ….दुनिया कब खत्म होगी? जानिए धर्मों की भविष्यवाणियां

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.