The ATI News
News Portal

जानिए RT-PCR रिपोर्ट न होने पर कैसे मिलेगी प्रदेश में एंट्री ??

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

उत्तर प्रदेश। कोरोना महामारी (Corona Pandemic) की तीसरी लहर से प्रदेशवासियों को सुरक्षित रखने के लिए सरकार द्वारा बहुत से इंतज़ाम किए जा रहे हैं। इसी प्रकार कांवड़ यात्रा रद्द करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कोरोना की तीसरी लहर (COVID Third Wave) को रोकने के लिए एक और बड़ा ऐलान किया है। अब उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में उन राज्यों से आने वाले लोगों को बिना निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट (RT-PCR) के एंट्री नहीं मिलेगी, जहाँ कोरोना संक्रमण की दर तीन फ़ीसदी से अधिक है।

नवजोत सिंह सिद्धू बिजली संकट पर भड़के, जो खुद है 8 लाख के बकायेदार

नए आदेश के मुताबिक कोरोना निगेटिव रिपोर्ट तीन दिन से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए। हालांकि, उन लोगों को छूट मिलेगी जिन्होंने टीके (Vaccine) की दोनों डोज़ लगवा ली है। दरअसल, उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कम होते केसों के साथ दूसरे राज्यों के लोगों का आवागमन तेज़ हो गया है। इसको देखते हुए रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दूसरे राज्यों से यूपी (UP) में दाखिल होने वाले लोगों के लिए खास निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की नियंत्रित स्थिति के बीच हमें अतिरिक्त सतर्कता बरतनी होगी‌। ऐसे में 3 फ़ीसदी पॉज़िटिविटी दर से अधिक वाले राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों के लिए कोरोना की निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट अनिवार्य होगी। यह रिपोर्ट चार दिनों से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए।

जानिए कब शुरू होगा काम नोएडा के जेवर international Airport का,PM मोदी रखेंगे नीव

सीएम योगी ने निर्देश देते हुए कहा कि ऐसे राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाले लोग अपना कोविड परीक्षण (Covid test) करा कर ही यात्रा प्रारंभ करें। जो लोग टीकाकरण (Vaccination) की दोनों खुराक प्राप्त कर चुके हों, उन्हें छूट दी जा सकती है। सड़क/वायु/रेल मार्गों के अलावा निजी साधनों से आ रहे लोगों के लिए भी यह नियम लागू होंगे। हाई कोविड पॉज़िटिविटी दर वाले राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों की गहन कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग (Contact tracing) और टेस्टिंग (Testing) करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

क्रिकेटर शिवम दुबे ने अंजुम खान संग की निकाह, तस्‍वीरें इंटरनेट मीडिया में वायरल

प्रदेश आगमन पर इनके एंटीजन टेस्ट (Antigen test) और थर्मल स्कैनिंग (Thermal scanning) भी जरूरी की गई है। इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। बता दें कि उत्तर प्रदेश के सात जनपदों (अलीगढ़, चित्रकूट, हाथरस, कसगंज, महोबा, शामली और श्रावस्ती) में अब कोविड का एक भी मरीज शेष नहीं है। ये जनपद कोविड संक्रमण से मुक्त हैं। यह स्थिति संतोषजनक है। विगत दिवस किसी भी जिले में दोहरे अंक में नए केस की पुष्टि नहीं हुई है।

 

47 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया है, जबकि 28 जनपदों में इकाई अंक में मरीज़ पाए गए। यह स्थिति बताती है कि प्रदेश में हर नए दिन के साथ कोविड महामारी पर नियंत्रण की स्थिति और बेहतर होती जा रही है। ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट की नीति के अनुरूप सभी जरूरी प्रबंध किए जाएँ। प्रदेश में कोविड टीकाकरण का कार्य सुचारु रूप से चल रहा है। अब तक उत्तर प्रदेश में 4 करोड़ 3 लाख 54 हजार से अधिक कोविड वैक्सीन लगाई जा चुकी हैं। यह किसी एक राज्य द्वारा किया गया सर्वाधिक वैक्सीनेशन है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.