The ATI News
News Portal

कई बार रौंदा मेरे बड़े सपनों को इस छोटी सोच वाली समाज ने hindi poetry on life 

15

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

कई बार रौंदा मेरे बड़े सपनों को इस छोटी सोच वाली समाज ने  hindi poetry on life

कई बार रौंदा मेरे बड़े सपनों को इस छोटी सोच वाली समाज ने
Image Source Google

कई बार रौंदा मेरे बड़े सपनों को इस छोटी सोच वाली समाज ने
मेरे चरित्र के बहुत चर्चे है इस बाज़ार में
इश्क़ किया तो वैश्या कहलाई

hindi poetry on life

हक मांगा तो बेशर्म
दर्द आंसू बन कर बह तो गए
तकलीफे फिर भी कम ना हो पाई
कदम कदम पे परखी गई हूं
हर रोज़ नये सवाल उठे

नुक्कड़ से गुजरते ताने कई बार सुने
उनके हंसी का कारण कई बार बनी हूं
नाम करने की चाह थी बदनाम हो कर रह गई हूं
काश कोई मुझसे भी पूछे
बंद कमरे में कितनी बार रोयी हूं।

Writer : Pragati Chandra

याद करो कि वही हो तुम….? LOVELY POETRY IN HINDI

हम सब मिलके कोरोना को हराएंगे

15 Comments
  1. Veer singh kishan says

    Good poem har ldki ki life me aise mod aate h..

  2. Rana singh says

    Bahot achhi poem

  3. Anjali pandey says

    Lovely poetry nd Girls are strong✌️

  4. Saumya Tiwari says

    Relatable ❣️

  5. Saumya Tiwari says

    एक सच्च..
    बेहतरीन कविता

  6. Ankita singh says

    Sundar kavita

  7. Aman srivastava says

    Nice poem

  8. Swapnil says

    Very heart touching poem…. Beautiful

  9. Ayush says

    Bhut achi

  10. ROHIT SRIVASTAVA says

    Wow yr nice

  11. Anjali sharma says

    Nice poem

  12. anjali sharma says

    Very nice poem

  13. Pragati chandra says

    Thanks everyone?

  14. Aradhana Srivastava says

    Very nice poem ???

  15. Priya says

    Nice lines….keep writing….??

Leave A Reply

Your email address will not be published.