The ATI News
News Portal

अपने बेटे के लिए माँ ने ऐसा कदम उठाया की लोग सुनके ही कांप गए #motivational story in hindi

4

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

अपने बेटे के लिए माँ ने ऐसा कदम उठाया की लोग सुनके ही कांप गए #motivational story in hindi

कहते हैं दुनिया की सबसे बडी़ ताकत माँ होती है , अगर माँ अपने जिद्द पर आ जाए तो कुछ भी कर सकती है और बात यदि उसके औलाद की हो तो फिर बात ही क्या।ऐसा ही कुछ अनोखा मामला सामने आया है तेलंगाना का जहाँ एक माँ ने अपने बेटे को लाने के लिए जो अपने दोस्त के यहाँ गया था और लाॅकडाउन होने के कारण फँस गया था ,1400 किलोमीटर स्कूटी से रास्ता तय किया । #motivational story in hindi

 

अपने बेटे के लिए माँ ने ऐसा कदम उठाया की लोग सुनके ही कांप गए
Pic Source Google

आईए जानतें हैं पूरी कहानी

रज़िया जो कि एक अध्यापिका हैं जिनके ‌तीन बच्चे हैं- जिसमें दो लड़के और एक लड़की है।

जो ठाना वह कर दिखाया

“अपने बेटे निजामुद्दीन को घर लाने के लिए पुलिस से इजाज़त पत्र लिया और अपने सफ़र की ओर चल दी रास्ते में उनको बहुत सी कठिनाइयां भी हुई , कई जगहों पर रोके जाने पर उन्होंने अपनी समस्या उन्हें समझाई और एक ठोस वजह बताकर अपना सफ़र तय करने की इजाज़त मांगी।motivational story in hindi

कैसे फँसे रजिया जी के बेटे..

रज़िया के बेटे जो कि इंटरमीडिएट के छात्र हैं वह डाक्टर बनना चाहते हैं और हैदराबाद की एक संस्था में पढ़ाई करते हैं। वह पिछले हफ़्ते ही बोधन से अपने एक दोस्त के साथ निलौर गए थे। वहां जाने के बाद उनके दोस्त को पता चला कि उनके पिता का स्वास्थ्य ठीक नहीं है तो वे दोनों 12 मार्च को वहां से गोधन वापस आने को निकल दिए। परंतु ला‌ॅकडाउन के चलते वह घर आने ‌में असमर्थ हो‌‌ गए।motivational story in hindi

घर पहुँचने के जब बन्द हो गए सारे रास्ते

जब उन्हें कोई रास्ता समझ नहीं आया तब उनकी मां रज़िया ने बोधन के एसीपी जयपाल रेड्डी से मदद की अपील भी की लेकिन पुलिस भी अपने काम में व्यस्त होने और दोनों जगहों में काफी दूरी होने के नाते मदद करने में असमर्थ होने लगी।

……लिया फैसला स्कूटी से करेंगी 1400 किमी रास्ता तय

 

अपने बेटे के लिए माँ ने ऐसा कदम उठाया की लोग सुनके ही कांप गए.
Pic Source Google

रजिया ने जब देखा कि अब बेटे को आने का कोई विकल्प नहीं है तो उन्होने यह निश्चय किया कि वह अपने ‌दो पहिया वाहन से ही बोधन से निल्लौर जाएंगी , जो कि एक बहोत बडा़ फैसला था, जब तक लोग सोचते तबतक अपने दृढ़ निश्चय के साथ वह निकल पडी़ और 7 अप्रैल को‌ वह निल्लौर पहुँच भी गई। वहाँ पहुँचकर उन्होंने अपने बेटे को लिया और फिर बिना देर किए वहां से तुरंत अपने सफ़र ‌पर लौट चलीं 24 घण्टे वापस सफर कर वे 8 अप्रैल को बोधन पहुँच गईं। motivational story in hindi

रास्ते कठिन थे लेकिन निश्चय दृढ़ था

अपने बेटे के लिए माँ ने ऐसा कदम उठाया की लोग सुनके ही कांप गए.
Pic Source Google

उन्होंने बताया कि उनको बहुत से जंगल वाले रास्तों से भी गुज़रना पड़ा। लेकिन वह एक पल के लिए भी घबराईं या डरी नहीं। माँ अपने बच्चों के लिए कुछ भी कर सकती हैं और उन्होने भी पत्रकार से यह ही कहा कि वे यह सब कुछ सिर्फ अपने बेटे को घर वापस लाने के लिए किया और सकुशल लाने में सफल भी रहीं ।

ATI NEWS ऐसी माँ और दृढ़ निश्चयी व्यक्तित्व को प्रणाम और उनके हौसलों को सलाम करता है।

Shipra Rai
(Writter) theatinews.com

Read More..तीन कहानियाँ जो आपकी सोच बदल देगी!  Motivational Story In Hindi

4 Comments
  1. Storywali says

    Very informative blog.

  2. harshit says

    I think this is the best story ever.

  3. Ambika Singh says

    I like it

  4. Pragya Singh says

    Emotional story

Leave A Reply

Your email address will not be published.