The ATI News
News Portal

बाप बेटे ने ऐसा काम किया की लोग कह दिए ” सरदार जी तुस्सी ग्रेट हो ! “

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

बाप बेटे ने ऐसा काम किया कि सभी लोग कह दिए की ” सरदार जी तुस्सी ग्रेट हो ! “inspirational stories,बाप बेटे ने ऐसा काम किया कि सभी लोग कह दिए की " सरदार जी तुस्सी ग्रेट हो ! "

जौनपुर  :जी हाँ प्रदेश के जौनपुर शहर के दो सरदार जी जो की सम्बन्ध में बाप बेटे हैं , उन्होने लोगों की ऐसी सेवा कि, सभी बोल दिए की सरदार जी आप दोनों ग्रेट हो !
सिख समुदाय के एक ही परिवार के पिता-पुत्र ने निःस्वार्थ मानव सेवा कर रहें हैं , कमल भाटिया व उनके बेटे मोहित भाटिया ने सिख धर्म के मूल मंत्र संगत – पंगत – लंगर का अनुसरण करते हुए इस महामारी में जज्बे और रुतबे के साथ पहले दिन से निस्वार्थ सेवा में कूद पड़े हैं। ..inspirational stories,

inspirational stories,

पिता-पुत्र की यह जोड़ी हर सुबह उठ कर बिना प्रशासन के सहयोग के ,प्रशासन के कार्य में सहयोग के लिए कीट नाशक छिड़काव मशीन से शहर के अधिकांश मंदिर,मस्जिद, गुरुद्वारा के साथ मलिन , दलित बस्तियों व बैंक की कुछ शाखाओं को खुद के द्वारा सेनिटाइजेशन करते है। कमल भाटिया व मोहित ने लॉकडाउन के मध्य पड़ने वाले नवरात्र में शहर के देवी मंदिरों के साथ प्रतिष्ठित शीतला चौकिया माता मंदिर का भी
सेनिटाइजेशन किया। inspirational stories,सरदार जी तुस्सी ग्रेट हो

inspirational stories, ये भी पढ़े…मिलिए कलयुग के महामानव से

यह कार्य करने के बाद, यही भाटिया परिवार मानवसेवा में नही रुकता पहले दिन से ही प्रतिदिन अपने घर से 100 रोटियों का अचार व मिनरल वाटर के साथ शहर में बेबस लाचार गरीब जरूरत मंदो तक वितरित करते हैं। कमल भाटिया-मोहित भाटिया की जोड़ी मानवता की सेवा अभी रुकती नहीं है इसके पश्चात मुरादगंज रेलवे क्रोसिंग के पास गरीब बाँस कारीगरो व कालीचबाद के राजस्थानी मजदूरों की बस्ती में दिवस अन्तराल राशन आटा, दाल चावल का वितरण करना आपने दिनचर्या में शामिल कर चुके है। inspirational stories,

ये भी पढ़े…ईश्वर के वरदान की तरह दिनों रात निःस्वार्थ सेवा दे रहीं हैं जौनपुर की ये दो संस्थाएँ

कमल भाटिया जी व भाटिया परिवार शहर के परचित चेहरों में शुमार है। कमल भाटिया जहाँ विज्ञान स्नातक है वहीं मोहित भाटिया प्रबंधन में स्नातक गोल्डमेडलिस्ट है। पिता -पु त्र जिंदादिल ,मृदुभाषी होने के साथ दिलेर बाइकर्स है। समस्त भारत की दूरी बाइक से नापने का साहस का परिचय समाज को पूर्व में करा चुके हैं। अहंकार व प्रचार से परे कमल भाटिया जी कई ढ़ाबो के मालिक भी है। समाजसेवा मानव सेवा में इनके कई मित्र गुप्त सहयोग करते रहते हैं।inspirational stories

ये भी पढ़े..देखिए क्या हुआ जब सभासद ही बन ग़ए कोरोना सेनानी !

इस महामारी में जब कोई परिवार अपने घर वालों को संक्रमित होने के डर से निकलने नहीं देता वहीं कमल भाटिया की माता रिटायर्ड पुलिस अधिकारी श्रीमती नरेंद्र कौर भाटिया जी व पत्त्नी पूनम भाटिया जी गरीबों के लिए रोटियाँ बनाने से लेकर हर प्रकार के सहयोग के साथ निस्वार्थ मानवसेवा प्रोत्साहित करने के साथ संबल प्रदान करते हैं। आज जहाँ समाज धर्म जाति के कटुता के दल में फसा जा रहा है वहीं सिख गुरु के संदेश समानता के साथ एक पंगत में सभी के लिए लंगर की व्यवस्था कर मानवता के दूत के रूप में कमल भाटिया जी व उनके पुत्र मोहित भाटिया( करन) जी ने सिख धर्म की सार्थकता व त्याग की भावना का संदेश अपने कर्मों के माध्यम से देने का कार्य कर रहे हैं।inspirational stories

यदि आप भी हमारी पोस्ट पढ़ते हैं तो देरी क्यूं अपनी भी कहानी भेजिए या ईमेल ([email protected]) करिए हम उसे दुनिया के सामने लाएंगे ।
बने रहिए हमारे साथ ए टी आई के साथ, घर रहिए और सुरक्षित रहिए ।।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.