The ATI News
News Portal

फर्जी जन्म/मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने वालों की अब खैर नहीं :- चिकित्सा विभाग जौनपुर

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

जौनपुर। जिले में चिकित्सा विभाग की टीम ने फर्जी जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने वालों पर नकेल कसना शुरू कर दिया है। जिला चिक्तिसाधिकारी के आदेशानुसार चिकित्सा कार्यालय में कार्यरत कर्मचारी छाया सिंह को इस टीम का जिला मुख्य अधिकारी बनाया गया है ।

 

UP: नाम किसी का, नौकरी किसी और की; एक और ‘अनामिका शुक्ला’ गिरफ्तार

जिनका कार्य जिले में चल रहे अवैध रूप से प्रमाणपत्र बनाने वाले गिरोह का पता लगाना और उनपर कार्यवाही कराना है। अभी तक इस क्रम में छाया सिंह ने चंदवक व बक्सा क्षेत्र में जांच भी कर चुकी है जहां कुछ लोग संदेह के घेरे में पाए गए हैं। जिनपर कार्यवाही के लिए पुलिस प्रशासन को निर्देशित कर दिया है।

 

पुलिस पड़ रही है ढीली वरना कम समय में ही पूरे जिले को दुरुस्त कर देती : छाया सिंह

कार्यवाहियों के मामले पर पत्रकार ने जब सवाल पूछा तो छाया सिंह ने बताया कि हमने 3 दिन पहले चंदवक ब्लाक पर तहकिकात किया, जहां पिक्सल कम्प्यूटर सेंटर से प्रमाण पत्र बनाने का मामला सामने आया। सेंटर के मालिक से पूछताछ में पता चला कि उसने बाजार के ही व्यक्ति मनोज यादव के माध्यम से पत्र जारी किया था , जिसपर पुलिस के मदद से बताए गए व्यक्ति को भी बुलवाया गया , पूछताछ में उस व्यक्ति द्वारा बताया गया कि उसे आनलाइन नेटवर्क से एक व्यक्ति दिलीप कुमार कुशवाहा नामक मिला था जो‌ प्रमाण पत्र बनाकर इन्हें मुहैया कराता था जिसे यह कुछ पैसे लेकर बनवाने वाले व्यक्ति को सौंप देते थे ।

पूरे वाक्या को सुनकर छाया सिंह ने रिपोर्ट तैयार करने व अग्रिम कार्यवाही के लिए बीरीबारी चिकित्सा अधीक्षक व टीम के साथ मौके पर गए पुलिस अधिकारी जितेंद्र सिंह को आदेशित किया लेकिन इन मामले के तीन दिन बीत जाने पर भी प्रथम सूचना रिपोर्ट भी दर्ज करने में प्रशासन असफल ही दिखी। यदि पुलिस प्रशासन कार्यों में तेजी लाए‌ तो कम समय में ही इस गिरोह को पकड़कर इन्हें दुरुस्त किया जा सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.