The ATI News
News Portal

गाजियाबाद: महिला को रेप का झूठा मुकदमा लिखवाना पड़ा भारी,कोर्ट ने लगाया 20 हजार रुपये का जुर्माना

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आए दिन रेप जैसे वारदात सामनें आते रहते हैं । लेकिन कभी कभी ऐसा भी होता है कि रेप के झूठे केस में भी महिलाएं लोगों को फंसा देती है । ऐसा ही एक मामला ग़ाज़ियाबाद से आया है जहाँ एक महिला ने रेप का मुकदमा एक व्यक्ति पर लगा दिया था । छानबीन के बाद महिला गलत पायी गयी । जिससे कोर्ट ने महिला के ऊपर रेप के मामले की झूठी रिपोर्ट लिखवाने के मामले को लेकर मुकदमा वादी पर 20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। जुर्माने से प्राप्त होने वाली धनराशि में से 50 फीसदी धन पीड़ित को दिए जाने के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने केस के आरोपित को बरी कर दिया है।

विशेष पॉक्सो एक्ट कोर्ट के विशेष लोक अभियोजक उत्कर्ष वत्स ने बताया कि लोनी बॉर्डर क्षेत्र स्थित एक मकान में महिला अपने परिवार के साथ किराए पर रहती थी। उसी मकान में रजत भी किराए पर रहता था। 6 अक्टूबर 2020 को महिला ने रजत पर आरोप लगाया कि रात में रजत ने उसकी बेटी का बलात्कार कर दिया। महिला की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने रजत को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

पीड़ित इस मामले में 3 महीने तक जेल में रहा उसके बाद उसे जमानत मिली थी। मामले की सुनवाई पॉक्सो कोर्ट में चली। शनिवार को मामले की अंतिम सुनवाई न्यायाधीश महेंद्र श्रीवास्तव की कोर्ट में चली। न्यायाधीश ने सुनवाई के दौरान साक्ष्यों के आधार पर बलात्कार की घटना को झूठा पाया। इस आधार पर कोर्ट ने रजत को बरी कर दिया।


वहीं बलात्कार का झूठा मुकदमा दर्ज कराने वाली महिला पर 20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माने से प्राप्त होने वाली धनराशि में से 50 प्रतिशत धन पीड़ित को दिए जाने के आदेश दिए हैं। जुर्माना नहीं देने पर महिला को 15 दिन का साधारण कारावास

Leave A Reply

Your email address will not be published.